श्री माछीवाड़ा साहिब, जेएनएन। पिछले कुछ दिनों से उत्तर प्रदेश से सस्ता धान लाकर पंजाब की मंडियों में सरकारी रेट पर बेचने का मामला सामने आया है। माछीवाड़ा पुलिस ने आढ़तियों व शैलर मालिकों की तरफ से चलाए जा रहे इस काले धंधे को बेनकाब कर पांच आढ़तियों, एक शैलर मालिक समेत सात के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

पुलिस के मुताबिक ट्रक में करीब 25 से 30 टन धान लदा हुआ था। हलांकि किसी भी आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हुई है। आरोपित सभी आढ़ती माछीवाड़ा के बताए जा रहे हैं। थाना मुखी राव व¨रदर ¨सह ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि उत्तर प्रदेश के नंबर वाले कुछ ट्रकों से धान मंडी में लाकर आढ़तियों को दिए जा रहे हैं, जिसे आढ़ती महंगे दामों पर बेच रहे हैं। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के शीशगढ़ निवासी मस¨वदर ¨सह ट्रक लेकर आ रहा है और वह माछीवाड़ा के आढ़तियों को देगा। इस सूचना के आधार पर सब-इंस्पेक्टर अवतार सिंह ने गढ़ी पुल पर नाकाबंदी कर उपरोक्त ट्रक को रोका जिसमें धान से भरे बोरे लदे हुए थे। एसएचओ राव वरिंदर सिंह ने कहा कि बाहर से धान लाकर बेचने के मामले में विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

इस संबंध में फूड सप्लाई इंस्पेक्टर अमरिंदर सिंह ने कहा कि माछीवाड़ा पुलिस ने उत्तर प्रदेश से लाया जा रहा धान से भरा ट्रक पकड़ा। यह धान पंजाब की मंडियों में बेचा जाना था। इसकी सूचना उच्चाधिकारियों को दे दी गई है। जांच की जा रही है कि किन-किन आढ़तियों की तरफ से बाहर से धान लाकर बेचा जा रहा है। उप्र से लाए धान पर आढ़ती प्रति ट्रक कमाते हैं तीन से चार लाख माछीवाड़ा अनाज मंडी के कुछ आढ़ती व शैलर वालों के लिए उप्र से लाया धान सोने की खान साबित हो रहा है और प्रति ट्रक उन को तीन से चार लाख रुपए कमाई हो रही है। बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश से यह धान दलालों के मार्फत माछीवाड़ा तक 1100 रुपए प्रति क्विंटल पहुंच की जाती है। इसके बाद यह धान पंजाब में सरकारी रेट 1888 रुपए प्रति क्विंटल तक बिकता है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!