जेएनएन, श्री माछीवाड़ा साहिब (लुधियाना)। माछीवाड़ा के गांव चक्की में खांसी-जुकाम से पीड़ित एक व्यक्ति की मौत हो गई। परिवार और गांव वाले Coronavirus से मौत के शक में उसके पास भी नहीं आ रहे थे। बाद में सेहत विभाग ने भरोसा दिया कि मृत युवक में कोरोना के कोई लक्षण नहीं हैं तो परिवार ने आठ घंटे बाद शाम को उसका गांव के श्मशानघाट में अंतिम संस्कार किया।

परिवार के अनुसार, 45 वर्षीय जगदीश कुमार आनंदपुर साहिब में होला महल्ला में गया था। वह 11 मार्च को वहां से लौटा था। पिछले करीब पांच-छह दिन से उसे खांसी, जुकाम और सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। वह एक डॉक्टर से दवा लेता रहा। जगदीश पारिवारिक सदस्यों से अलग घर में रहता था। रविवार सुबह करीब आठ बजे परिवार के लोग उसे देखने गए तो देखा उसकी सांसें थम चुकी थीं। जगदीश की मौत के बाद गांववासी सहम गए।

पत्नी, बच्चे और भाई को किया क्वारंटाइन

माछीवाड़ा अस्पताल की एसएमओ डॉ. जसप्रीत कौर ने बताया कि मृतक जगदीश के पारिवारिक सदस्यों पत्नी, ब'चे और भाई को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन कर दिया गया है। यदि फिर भी पारिवारिक सदस्यों में संदिग्ध लक्षण पाए गए तो उनके सैंपल लिए जाएंगे। 

इसलिए बैठा डर

बता दें, कुछ दिन पूर्व नवांशहर में विदेश से लौटे एक बुजुर्ग की मौत हो गई थी। इसके के बाद गांव के कई लोग उसके अंतिम संस्कार में शामिल हुए। बाद में जांच में पता चला कि बुजुर्ग COVID-19 Positive था। इसके बाद गांव को सील कर दिया गया था। बुजुर्ग के संपर्क में आने वाले कई लोग बाद में COVID-19 Positive पाए गए। बुजुर्ग होला मोहल्ला में भी गया था। इसी डर से लोग माछीवाड़ा के गांव चक्की में मरे व्यक्ति के अंतिम संस्कार केे लिए सहमे नजर आए। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़नेे के लिए यहां क्लिक करेंं

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!