जेएनएन, खन्ना। विधानसभा चुनाव में हार का मुंह देख चुके अकाली दल के अच्छे दिन अभी आते नहीं दिख रहे हैं। लोकसभा चुनावों की तैयारियों में जुटी पार्टी के लिए वर्करों को लामबंद और एकजुट करने की कोशिशों को बल नहीं मिल पा रहा है। यही कारण है कि वीरवार को खन्ना में वर्करों के साथ चुनाव संबंधी चर्चा करने पहुंचे पूर्व कैबिनेट मंत्री गुलजार सिंह रणिके की बैठक में ज्यादातर कुर्सिया् खाली ही रहीं। खास बात यह रही कि हलका इंचार्ज रणजीत सिंह तलवंडी भी बैठक में शामिल नहीं हुए। जानकारी के अनुसार पुलिस जिला खन्ना इकाई के एससी विंग की तरफ से रखे इस कार्यक्रम में रणिके दोपहर करीब 2 बजे पहुंच गए थे, लेकिन कार्यक्रम से वर्करों के दूर रहने से उन्हें निराशा ही हाथ लगी। रणिके संबोधित कर चले गए, पर इस बैठक से शिअद की चुनावी तैयारियों को धक्का जरूर पहुंचा है। बताया जाता है कि तलवंडी के कार्यक्रम में नहीं आने की सूचना भी उन्हें बाद में दी गई।

रूठों को मनाने की कोशिशें जारी हैं: रणिके

अपने संबोधन में रणिके ने वर्करों को एकजुट होकर काम करने को कहा। टकसाली नेताओं द्वारा बागी होकर अलग पार्टी बनाने के मुद्दे पर रणिके ने कहा कि पार्टी बड़ी होती है, आदमी नहीं। जो रूठे हुए हैं उन्हें मनाने की कोशिशें की जा रही हैं। अकाली दल लोकसभा चुनाव में शानदार जीत दर्ज करेगा। लुधियाना में कैबिनेट मंत्री भरत भूषण आशु द्वारा डीईओ स्वर्णजीत कौर को फटकार लगाने के मामले में प्रतिक्रिया देते हुए रणिके ने कहा कि कैप्टन अपने मंत्रियों को संस्कार सिखाएं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!