जासं, लुधियाना : कैप्टन अम¨रदर सिंह ने तीन दिन के लिए विधानसभा का शीतकालीन सत्र बुलाया है। इस शीत सत्र के दिन कम रखने पर विरोधी पार्टियों ने सवाल खड़े किए हैं। आम आदमी पार्टी ने तो कैप्टन सरकार की नीतियों को जन विरोधी बताते कहा कि सरकार ने विपक्ष के डर से शीतकालीन सत्र छोटा रखा है ताकि विपक्ष के विधायकों को सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध करने का मौका न मिले। बुधवार को आम आदमी पार्टी के सांसद साधू सिंह और सुनाम से विधायक अमन अरोड़ा पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर उतरे और उन्होंने लुधियाना में रोष मार्च निकाला।

आम आदमी पार्टी मालवा जोन-2 के वालंटियरों ने पंजाब सरकार की जन विरोधी नीतियों और फैसलों के खिलाफ गुलमोहर होटल से डीसी दफ्तर तक रोष मार्च निकाला। उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं ने डीसी को मांगपत्र भी सौंपा। पार्टी की कोर कमेटी के चेयरमैन प्रिंसिपल बुद्ध राम ने प्रदर्शन की अगुवाई की। उन्होंने कहा कि कैप्टन सरकार अकाली-भाजपा गठबंधन सरकार से भी निकम्मी साबित हो रही है। राज्य में किसानों, मुलाजिमों, अध्यापकों समेत बहुत से लोग सड़कों पर रोजाना धरने दे रहे हैं और सरकार काम करने को तैयार नहीं है।

सुनाम से विधायक अमन अरोड़ा ने कहा कि सरकार जनतक मुद्दों पर विरोधी पक्ष का सामना करने से घबराई हुई है। इसी कारण ही सिर्फ 3 दिन का विधानसभा सत्र बुलाया गया है। सांसद प्रो. साधू सिंह ने केंद्र सरकार पर हमला करते कहा कि मोदी सरकार ने अपने नादिरशाही जन विरोधी फैसलों के साथ देश को बर्बाद करके रख दिया है। प्रदर्शन में विधायक अमरजीत सिंह संदोआ, जिला प्रधान शहरी दलजीत सिंह ग्रेवाल, जिला प्रधान देहाती रणजीत सिंह धमोट, पार्टी प्रवक्ता दर्शन सिंह शकर, जोन महिला प्रधान राजिंदरपाल कौर छीना, यूथ प्रधान मालवा जोन-2 अमनदीप सिंह मोही, बलबीर चौधरी, संदीप मिश्रा व अन्य उपस्थित हुए।

विधायक का आरोप, डीसी ने लोगों को नहीं आने दिया अंदर

विधायक अमन अरोड़ा ने कहा कि पंजाब सरकार के साथ अफसर भी विरोधी पार्टियों के साथ भेदभाव वाला रवैया अपना रहे हैं। उन्होंने कहा कि डीसी को ज्ञापन देने के लिए पार्टी के विधायक, सांसद व कुछ वरिष्ठ नेता पहुंचे थे लेकिन डीसी ने उन्हें कह दिया कि पांच से ज्यादा लोगों को अंदर नहीं आने दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!