जागरण संवाददाता, लुधियाना। Ludhiana Vehicle Theft: कार चोरी और लूटपाट करने वाले गिरोह के सरगना बाप-बेटे सहित चार लोगों को थाना सराभा नगर की पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उनके पास से पांच कारें, .32 बोर का एक पिस्तौल, दो कारतूस, सोने का कड़ा, चेन, दो अंगूठियां और दो मोबाइल फोन जब्त किए गए हैं। पुलिस को उनके एक और साथी की तलाश है। गिरोह को पकड़ कर पुलिस ने पिछले दिनों शहर में हुई कार लूट की दो वारदात को सुलझाने का दावा किया है।

एडीसीपी समीर वर्मा ने बताया कि आरोपितों की पहचान फिरोजपुर के गोल बाग के रहने वाले सुरजीत सिंह उर्फ मक्खन, उसका बेटा पूरन सिंह, फिरोजपुर के जीरा स्थित न्यू आबादी का रहने वाला साहिब सिंह उर्फ साबा और अमृतसर के फतेहगढ़ चूड़ियां रोड स्थित आकाश एवेन्यू की गली नंबर दो का सौबर रंधावा के रूप में हुई है। फिरोजपुर के थाना मल्लावांला के गांव कालूवाल के लखविंदर सिंह की पुलिस को अब भी तलाश है। इनके पास से पुलिस ने एक ब्रेजा, स्कार्पियो, दो इंडिगो और एक फा‌र्च्यूनर कार जब्त की है। इन सभी गाड़ियों पर फर्जी नंबर लगाए गए थे।

शहर के बीआरएस नगर से 25 अगस्त की रात को इसी गिरोह ने गन प्वाइंट पर ब्रेजा कार लूटी गई थी। 10 सितंबर को भी राजगुरु नगर में स्कार्पियो गाड़ी लूटी थी। इंडिगो कार अमृतसर के तरनतारन रोड से चोरी की थी और इंडिगो कार जालंधर के कपूरथला रोड से चोरी की थी। फा‌र्च्यूनर कार कहां से चोरी की थी इसकी जांच की जा रही है। गिरोह के सरगना बाप-बेटे बहुत शातिर हैं। उनके खिलाफ कई जिलों में वाहन चोरी के 50 से अधिक केस दर्ज हैं। यह लोग चोरी की कारें फर्जी दस्तावेज तैयार कर हरियाणा और राजस्थान में बेच देते थे।

जेल में हुई जान पहचान, बना लिया गिरोह 

बाप-बेटा फिरोजपुर जेल में बंद थे। वहां उनकी पहचान नशा तस्करी के आरोप में जेल में बंद साहिब सिंह के साथ हुई। जेल में ही इन लोगों ने गिरोह बनाने की तैयारी कर ली। जेल से जमानत पर बाहर आने के बाद बाप-बेटे ने फिरोजपुर में किराना की दुकान खोली। जब साहिब सिंह जेल से बाहर आया तो यह लोग कार चोरी व लूटपाट करने लगे। इन लोगों को पिस्तौल लखविंदर सिंह ने मुहैया करवाया था। गिरोह ने सौबर रंधावा को लूटी गई ब्रेजा कार पर फर्जी नंबर लगाकर बेची थी। सौबर के खिलाफ पहले भी अमृतसर के थाना सदर में केस दर्ज है।

यह भी पढ़ें-पंजाब में अनूठी पहल, बठिंडा के हर गांव में बनेगी लाइब्रेरी, युवा कर सकेंगे प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी