लुधियाना, जेएनएन। केंद्र सरकार की ओर से बीएसएनएल के बेड़े में 4जी स्पेक्ट्रम पिछले सितंबर में लाने की घोषणा के बाद एक बार फिर इसको स्वदेशी की आड़ में अटका दिया गया है। केंद्र सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक 4जी स्पेक्ट्रम के लिए किसी स्वदेशी कंपनी को आर्डर देने के लिए लोकल टेंडर की बात कही जा रही है। लेकिन इस तरह के स्पेक्ट्रम किसी स्वदेशी कंपनी के पास नहीं है और लंबे अर्से से बीएसएनएल 4जी की सुविधा नहीं ला सका है। ऐसे में कर्मचारियों का भविष्य खतरे में है।

वीरवार को इसको लेकर अॉल यूनियन एवं एसोसिएशन अॉफ बीएसएनएल की ओर से एक दिवसीय भूख हड़ताल की गई। लुधियाना के भारत नगर चौक स्थित मुख्यालय में कर्मचारियों की ओर से भूख हड़ताल कर सरकार की कार्यप्रणाली के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। एक अक्टूबर को बीएसएनएल का पहला फाउंडेशन डे सेलीब्रेट किया जाता है। ऐसे में लगातार बीएसएनएल को खत्म किए जाने की हो रही कोशिशों के विरोध में कर्मचारियों ने भूख हड़ताल की।

निजीकरण का लगाया अाराेप

वक्ताओं ने कहा कि निजीकरण को फोकस कर अच्छे विभागों को भी सरकार जान बूूझकर बंद करने की प्रक्रिया में है। इस दौरान कर्मचारी काली पटिट्यां बांधकर बैठे। इस अवसर पर का. गुरप्रीत सिंह, कामरेड सुरजीत सिंह, कामरेड हरिंदर सिंह, कामरेड अवतार सिंह और कामरेड विनय रैना ने भी विचार रखे।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!