लुधियाना [अर्शदीप समर]। पंजाब में साल 2011 से लेकर 2019 तक 42 हजार 319 लोगों की सड़क हादसों में मौत हो चुकी है। रोजाना औसतन 13 लोगों की सड़क हादसों में मौत होती है। अब हादसों को रोकने के लिए ट्रैफिक पुलिस जल्द ही दो करोड़ की लागत से हाईटेक ट्रैफिक रिसर्च सेंटर तैयार करेगी। फिलहाल यह तय नहीं हो पाया है कि सेंटर कहां बनाया जाएगा, लेकिन सेंटर में सड़क हादसे रोकने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और एडवांस कम्प्यूटिंग सिस्टम के तहत होगा। पंजाब सरकार ने इसके लिए दो करोड़ रुपये का फंड उपलब्ध करवा दिया है और सेंटर के तैयार होने पर सारा काम कंप्यूटर पर होगा।

थ्री-डी मैपिंग पर काम करेगी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस

ट्रैफिक पुलिस द्वारा पूरे पंजाब में 391 ब्लैक स्पॉट ढूंढे गए हैं। जहां लगातार सड़क हादसों में लोगों की मौत हो रही है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की ओर से इन स्पॉट पर थ्री-डी तकनीक पर काम किया जाएगा। ब्लैक स्पॉट पर होने वाले हादसों के कारण ढूंढने के बाद उनकी रोकथाम के लिए थ्री-डी प्लान बनाकर सरकार को भेजे जाएंगे ताकि इन पर समय पर काम हो जाए और हादसों पर नकेल कसी जा सके। इसके साथ ही ग्लोबल मैपिंग से सड़कों की स्थिति पर नजर रखकर ट्रैफिक प्लान तैयार किया जाएगा।

हाईवे पार्किंग पर होगा काम, बनेगा स्पेशल पुलिस यूनिट

सेंटर में स्पेशल पुलिस का यूनिट भी तैयार किया जाएगा। जो लगातार हाईवे पर घूमकर सड़क हादसों पर नकेल कसने के लिए स्टडी करता रहेगा। वहीं सेंटर की टीम हाईवे पार्किंग को लेकर काम करेगी ताकि पार्किंग के बेहतर डिजाइन तैयार किए जा सकें। इससे भी सड़क हादसों को रोकने में मदद मिलेगी।

सड़क हादसों पर नकेल कसने में मिलेगी मदद: एडीजीपी चौहान

एडीजीपी (ट्रैफिक) एसएस चौहान ने कहा कि दो करोड़ रुपये की लागत से सेंटर तैयार किया जाएगा। अभी जगह का चुनाव किया जा रहा है। जिन जगहों पर सड़क हादसे हो रहे हैं, उनके लिए थ्री डी प्लान तैयार कर सड़क हादसों पर नकेल कसी जाएगी। इसके साथ ही सारा सिस्टम कंप्यूटर पर हो जाएगा। इस सेंटर को साइंटिस्ट रिसर्च के आधार पर तैयार किया जा रहा है। इसे लेकर आईआईटी दिल्ली का सहयोग लिया जाएगा।

 

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Vikas Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!