लुधियाना, जेएनएन। गुरुद्वारा कलगीधर रोड पर करीब डेढ़ साल पहले दिनदहाड़े कार्यालय में घुसकर की गई फायरिंग के मामले को पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने मास्टरमाइंड महिला को गिरफ्तार किया है। महिला ने ही 20 लाख की देनदारी से बचने के लिए व्यापारी पर फायरिंग करवाई थी। इसके लिए गैंगस्टर सुखबीर सिंह सुक्खा को प्यार जाल में फंसाकर उससे शादी की थी। सुक्खा ने ही उसके कहने पर साथियों सहित व्यापारी को डराने के लिए वारदात की थी। पुलिस ने महिला को जीएमडी मॉल के पास से काबू किया है। वह सास के साथ शहर किसी काम के सिलसिले में आई थी।

एडीसीपी-1 गुरप्रीत सिंह सिकंद ने बताया कि 20 जुलाई 2018 को दोपहर ढाई बजे कलगीधर गुरुद्वारा साहिब रोड पर व्यापारी त्रिलोचन सिंह चड्ढा पर फायरिंग हुई थी। तब मुंह ढककर आए चार युवकों ने वारदात को अंजाम दिया था। त्रिलोचन एक कॉस्मेटिक कंपनी के डीलर हैं और पंजाब समेत दूसरे राज्यों में प्रोडक्ट जाते हैं। महिला इस कंपनी की मार्केटिंग रिप्रेजेंटेटिव थी। महिला ने त्रिलोचन चड्ढा का पुराना मॉल अपने तौर पर बेचा था। उस माल के करीब 20 लाख रुपये उसने व्यापारी को देने थे। वह उनके पैसे नहीं देना चाहती थी, क्योंकि वह इसे खर्च चुकी थी।

फेसबुक पर की गैंगस्टर से दोस्ती

एडीसीपी के मुताबिक, आरोपित महिला ने इसके लिए योजना बनाकर फेसबुक पर जांलधर के रुड़का कलां के गैंगस्टर सुखबीर सिंह सुक्खा से पहले दोस्ती की। फिर शादी कर ली। उसके कहने पर गैंगस्टर सुक्खा ने अपने साथियों अरविंदर सिंह उर्फ सोनू, सिद्धांत सहगल और सूरज कुमार के साथ मिलकर व्यापारी त्रिलोचन को डराने के लिए दो रिवॉल्वर से उसकी टांगों पर फायरिंग की थी।

आदमपुर पुलिस ने पकड़े थे दो आरोपित, वहीं से हुआ पर्दाफाश

दरअसल जालंधर जिले की आदमपुर पुलिस ने अरविंद सिंह और सिद्धांत सहगल रुड़का कलां को अवैध हथियारों के साथ काबू किया था। पूछताछ में उन्होंने कबूला था कि उन्होंने ही त्रिलोचन चड्ढा पर फायरिंग की थी। पुलिस उन्हें सात अक्तूबर को प्रोडक्टशन वारंट पर लेकर आई थी। उन्होंने कबूला था कि गैंगस्टर सुक्खा के कहने पर ही उन्होंने गोलियां चलाई थीं। पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई तो पता चला कि सुक्खा की पत्नी वहीं महिला है, जिसने व्यापारी त्रिलोचन के पैसे देने हैं। सूचना मिलने पर पुलिस ने उसे सोमवार सुबह काबू कर लिया, मगर उसका साथी सुखबीर सुक्खा और सूरज अभी फरार हैं।

विदेश की ललक ने बना दिया अपराधी

आरोपित महिला पहले भी दो शादियां कर चुकी है। उसके पांच साल का बेटा है। वह विदेश जाना चाहती थी। इसके लिए उसने काफी पैसा भी बर्बाद किया था, मगर वह विदेश नहीं जा सकी थी। त्रिलोचन चड्ढा का पैसा भी उसने विदेश जाने के चक्कर में बर्बाद कर दिया था। पैसे न देने पड़ें इसलिए उसने यह प्लान बनाया था।

स्विफ्ट कार मे आया था सुक्खा

वारदात के समय सुखबीर सुक्खा स्विफ्ट कार में आया था। वह वारदात के समय कार में बैठा रहा। उसके साथी अरविंदर और सिद्धांत ने फायरिंग की थी। भागते समय सूरज ने दुकान का शटर बंद किया था। उनकी ओर से तीन दिन पहले भी त्रिलोचन के परिवार पर फायरिंग करने के लिए उन्हें बीआरएस नगर में घेरा था, मगर वह वहां से बच गए थे। इसके बाद दुकान में घुसकर फायरिंग की।

हैबोवाल में रहती थी, एक साल से थी गायब

आरोपित महिला हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा शहर की रहने वाली है। वह करीब 10 साल से महानगर के हैबोवाल इलाके में ही रह रही थी। जालंधर के गैंगस्टर सुखबीर सुक्खा के साथ शादी और फिर व्यापारी पर गोलियां चलाने की घटना के बाद से वह करीब एक साल से गायब थी। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!