-नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए शिक्षा विभाग ने कसी कमर

-10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए बनाए 2707 परीक्षा केंद

-7.42 लाख विद्यार्थी देंगे परीक्षा, शिक्षा मंत्री व बोर्ड के चेयरमैन ने की घोषणा

जागरण संवाददाता, लुधियाना : शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी और पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन कम सेक्रेटरी एजुकेशन कृष्ण कुमार ने सेल्फ सेंटर खत्म करने का अधिकारिक एलान कर दिया। शिक्षा मंत्री ने लुधियाना में साफ कर दिया कि सेंटर खत्म करने के पीछे नकल विहीन परीक्षा करवाना है। शिक्षा विभाग और स्कूल शिक्षा बोर्ड इस फैसले को हर हाल में लागू करेगा। 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा के लिए राज्य भर में 2707 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, जिसमें 7.42 लाख विद्यार्थी परीक्षा देंगे।

शिक्षा मंत्री चौधरी ने बताया कि सेल्फ सेंटर बदलने के फैसले का अलग-अलग स्तरों पर विरोध किया जा रहा था। टीचर्स और निजी स्कूल संगठन बच्चों की असुविधा का तर्क दे रहे हैं। बोर्ड ने सेंटर बदलकर सूचियां जिला शिक्षा अधिकारियों को भेजी थीं और उन्हें इन सूचियों को रिव्यू करने को कहा था, जो सूचियां विभाग की तरफ से रिव्यू करके भेजी गई हैं उसके आधार पर परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। किसी भी स्कूल के विद्यार्थियों को अगर दिक्कत आती है तो आखिरी समय तक बच्चों के हितों को देखते हुए परीक्षा केंद्रों में बदलाव किया जाएगा। मंत्री ने कहा कि कोई भी परीक्षा केंद्र पांच से सात किलोमीटर से दूर नहीं बनाया गया है। अब किसी भी हाल में यह फैसला वापस नहीं लिया जाएगा।

--------

साथ शुरू हो जाएंगे मूल्यांकन कार्य

शिक्षा मंत्री चौधरी ने बताया कि राज्य भर में 4.05 लाख विद्यार्थी 10वीं की परीक्षा में हिस्सा ले रहे हैं, जबकि 12वीं में 3.37 लाख विद्यार्थी शामिल होंगे। परीक्षा खत्म होने के 15 दिन के भीतर परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। परीक्षाएं शुरू होते ही मूल्यांकन का काम भी शुरू कर दिया जाएगा। एक तरफ परीक्षाएं चलेंगी तो दूसरी तरफ मूल्यांकन का काम किया जाएगा। इसके लिए अलग-अलग टीचर्स की ड्यूटियां लगाई जा रही हैं।

-------

निजी स्कूल संचालक लगे जोर आजमाइश में

सेल्फ सेंटर खत्म करने की घोषणा के बाद निजी स्कूल संचालक फैसले को बदलवाने के लिए जोर आजमाइश में जुट गए थे। सोमवार को निजी स्कूल संगठन के प्रधान रजिंदर शर्मा ने वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल से सेल्फ सेंटर बनवाने की अपील की। साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात करवाने की मांग भी की।

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!