जागरण संवाददाता, लुधियाना। लुधियाना में एलईडी लाइट्स लगाने वाली टाटा कंपनी और नगर निगम के बीच चल रहा विवाद और गहरा गया है। कंपनी का दावा है कि उसने शहर में 1.05 लाख में से 1.03 लाख एलईडी लाइट्स लगा दी हैं। वहीं नगर निगम कंपनी के इस दावे से सहमत नहीं है। मेयर व पार्षदों का कहना है कि कंपनी ने पूरी लाइट्स नहीं लगाई हैं। अधिकारियों की मिलीभगत से सर्टिफिकेट प्राप्त कर लिया है। मेयर ने शहर के तमाम पार्षदों को अपने-अपने वार्डों में एलईडी लाइट्स के प्वाइंट गिनने के लिए कहा था। शनिवार सुबह जब मेयर, कमिशन, पार्षद और टाटा कंपनी के कर्मचारी रोज गार्डन में इकट्ठा हुए तो पता चला कि कंपनी ने उनके वार्ड में ही 144 लाइट्स कम लगाए हैं।

इसके अलावा कई पार्षदों ने भी बताया कि उनके वार्ड में भी लाइट्स कम लगी हैं। अब निगम कंपनी के खिलाफ सख्त कदम उठाने की तैयारी में है। कमिश्नर प्रदीप सभ्रवाल ने चारों जोनों के एसई को आदेश दिए कि वह अपने कर्मचारियों से पूरे शहर में लगी लाइट्स की गिनती करें। गिनती करते समय पार्षदों या उनके प्रतिनिधियों को भी साथ रखें। दस दिन में उन्हें रिपोर्ट दें। रिपोर्ट आने के बाद हाउस की बैठक होगी और उसमें रिपोर्ट रखी जाएगी। इसके बाद हाउस में कंपनी का कांट्रैक्ट टर्मिनेट करने का प्रस्ताव पास किया जाएगा।

मशीनरी नहीं लाए कंपनी के अधिकारी

वहीं रोज गार्डन में शनिवार को टाटा कंपनी के अधिकारी व कर्मचारी फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए तो पहुंचे लेकिन साथ में मशीनरी नहीं लेकर आए। इस दौरान सामने आया कि कंपनी के पास पर्याप्त कर्मचारी भी नहीं हैं। इस कारण समय पर लोगों की शिकायतों का निवारण नहीं हो रहा है।  

सवाल : कैसे मिल गया कंप्लीशन सर्टिफिकेट

मेयर ने एसई राहुल गगनेजा से सवाल किया कि जब उनके खुद के वार्ड में एलईडी लाइट्स पूरी नहीं लगी हैं तो कंपनी को सर्टिफिकेट कैसे दे दिया गया। ऐसे अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

इन वार्डों में मिली कम एलईडी लाइट्स

वार्ड                                कम लाइट्स की संख्या

मेयर बलकार सिंह संधू वार्ड 78          144

प्रभजोत कौर वार्ड नंबर 29                500

गुरमेल सिंह जज्जी वार्ड  02              188

हरभजन सिंह डंग वार्ड नंबर 46          200

पाल सिंह ग्रेवाल वार्ड नंबर  24         300

गुरदीप सिंह नीटू वार्ड नंबर  52         60

राकेश पराशर वार्ड नंबर   64            94

इन वार्डों के लिए एक-एक कर्मचारी

फिजिकल वेरिफिकेशन के दौरान सामने आया कि वार्ड नंबर 16, 18, 27 में एक, वार्ड नंबर 17, 19, 9, 10, 11 में एक,  23, 24 ,25, 28 में  एक कर्मचारी तैनात है। वह भी छह महीने से छुट्टी पर है।

कुछ वार्डों में ज्यादा लाइट्स

कांग्रेस के पार्षद मनी ग्रेवाल ने कहा कि कई वार्डों में एलईडी लाइट्स के ज्यादा प्वाइंट लगे हैं। इसकी भी जांच होनी चाहिए और जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

काम न करने वालों का शह न दें अधिकारी

बैठक के दौरान मेयर ने उन अधिकारियों को भी खूब सुनाई जो कंपनी को शह दे रहे थे। उन्होंने साफ किया कि काम न करने वालों को बचाना बंद कर दें नहीं तो उन पर भी कार्रवाई होगी।

Edited By: Vinay Kumar