संवाद सहयोगी, फगवाड़ा : केंद्रीय उद्योग व वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने कोरोना के खिलाफ जंग जीत ली है। वह पूरी तरह स्वस्थ हैं और मोहाली स्थित अपने आवास पर है। डाक्टरों ने सोम प्रकाश को बताया कि अब वह संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। कोरोना संकट के दौरान केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश व उनका पूरा परिवार जनसेवा में जुटा था। उन्होंने लोगों राशन सामग्री, तैयार भोजन के पैकट भी वितरित किए थे। अप्रैल में केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश कोरोना संक्रमित हो गए। सेहत विभाग की ओर से सोम प्रकाश के संपर्क में आए सभी लोगों के कोरोना टेस्ट किए गए। उनकी पत्नी समाजसेविका अनीता सोम प्रकाश की रिपोर्ट भी पाजिटिव पाई गई। अनीता सोम प्रकाश ने मोहाली स्थित घर में स्वयं को क्वारंटाइन कर लिया।

सोम प्रकाश मोहाली के एक निजी अस्पताल में उपचाराधीन थे। स्वस्थ होने के बाद शनिवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश ने कहा वह पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि सेहत विभाग की टीम लगातार उनके संपर्क में थी और नियमित अंतराल पर निरीक्षण भी कर रही थी। डाक्टरों की सलाह पर नियमित आहार लेने के अलावा वह सावधानी बरत रहे थे। शनिवार को मोहाली के निजी अस्पतालों ने उन्हें बताया कि अब वह पूरी तरह से ठीक हैं। मंत्री सोम प्रकाश ने जल्द ठीक होने की कामना करने के लिए लोगों का धन्यवाद किया।

लक्षण महसूस होने पर कोरोना टेस्ट करवाएं : डा. जीबी सिंह संवाद सहयोगी, फगवाड़ा : कोरोना के लक्षणों को किसी भी सूरत में अनदेखा न करे। पहले चरण में ही इसका पता लगाने पर नियत्रंण पाया जा सकता है। अक्सर मरीज अपने पहले स्तर पर ही दवा शुरू कर देते है और जब केस गंभीर हो जाता है तो अस्पताल पहुंचते है। देरी से अस्पताल पहुंचने या डर के कारण अस्पताल न जाने से मरीज की मौत तक हो जाती है। यदि आपके परिवार या पड़ोस में कोई कोरोना संक्रमित हो तो उससे दूरी बनाने की बजाए उसका हौसला बढ़ाएं। उसे अकेला न छोड़े। वीडियो काल या अन्य माध्यम से बातचीत करते रहे। लोगों को हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि इस वायरस से होने वाले किसी भी तरह को कोई लक्षण हो तो नजदीकी अस्पताल में जांच करवाएं। रिपोर्ट आने तक खुद को घर पर एकांतवास में रखें ताकि संक्रमण को फैलाने से रोका जा सके। लोगों को समय-समय पर हाथ धोते रहना चाहिए। छींकने या खांसने के बाद को मुंह व आंखों पर न लगाएं।