नरेश कद, कपूरथला

थेह कांजला रोड स्थित माडर्न जेल में सीआरपीएफ व पुलिस कर्मचारी की तैनाती के बावजूद नशा व मोबाइल बरामदगी का सिलसिला जारी है। बुधवार को जेल में चेकिंग के दौरान चार मोबाइल बरामद किया गया है। कोरोना महामारी के चलते जेल में बाहर से आने वाले कैदी व हवालातियों के रिश्तेदारों की मुलाकात नहीं करवाई जाती है। कैदियों को कोर्ट में भी पेश नहीं किया जा रहा है। इसके बावजूद भी जेल में नशा व मोबाइल मिलने से जेल की सुरक्षा पर सवाल उठ रहा हैं। पिछले छह महीनों के दौरान जेल में कैदियों और हवालातियों से 150 मोबाइल फोन, 400 ग्राम नशीला पदार्थ और नशे की गोलियां बरामद हुई है। जेल में तैनात निजी सुरक्षा कर्मचारी चंद पैसे के लालच में कैदियों तक नशा व मोबाइल पहुंचाते हैं। चेकिंग के दौरान कई बार निजी सुरक्षा कर्मचारियों से मोबाइल बरामद किया गया है। इसके अलावा जेल में हवालाती नशे को लेकर आए दिन मारपीट करते हैं। मंगलवार को नशे के लिए जेल में हुई मारपीट में तीन हवालाती गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने मारपीट करने वाले दस हवालातियों पर केस दर्ज किया है।

बताते चलें कि प्रदेश सरकार ने माडर्न जेल में 12 जैमर लगाया हुआ है। जैमर सही तरीके से काम नहीं कर रहा है।

सही तरीके से काम नहीं कर रहे जैमर : सुपरिटेंडेंट

जेल सुपरिटेंडेंट बलजीत सिंह घुम्मन का कहना है कि जेल में मोबाइल नेटवर्क को खत्म करने के लिए लगाए गए जैमरों पर 2-जी की जगह 5-जी नेटवर्क लगाए जाए तो मोबाइल का नेटवर्क काम नही करेगा। इससे जेल में कैदियों की ओर से चलाए जा रहे नशे का नेटवर्क भी टूट जाएगा। उन्होंने कहा कि सुरक्षा कर्मचारियों की ओर से जेल में रोजाना अलग-अलग बैरक में जांच की जाती है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!