जागरण संवाददाता, कपूरथला : पंजाब सरकार की ओर से जेलों में कैदियों के जीवन में सुधार के लिए बुधवार को केंद्रीय जेल कपूरथला से 'संकल्प' प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई है जिसके तहत पंजाब के आठ जेलों में कैदियों को अलग-अलग पेशे का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रोजेक्ट की शुरुआत तकनीकी शिक्षा, रोजगार उत्पति और बागबानी मंत्री पंजाब राणा गुरजीत सिंह की ओर से की गई।

इस योजना के पहले चरण में अमृतसर, फिरोजपुर, कपूरथला, फरीदकोट, बठिडा, नाभा, पटियाला और लुधियाना (वूमैन जेल) में कैदियों को 400 घंटों के पाठ्यक्रम करवाए जाएंगे जिसके अंतर्गत उनको राज मिस्त्री, कारपेंटर, ब्यूटी थेरेपिस्ट, मैसन, पेंटर, हेल्पर, इलेक्ट्रीशियन और पलंबर के कोर्स करवाए जाएंगे। कोर्स पूरा करने उपरांत योग्यता अनुसार कैदियों को जेल में ही रोजगार दिया जाएगा। महिला कैदियों के लिए सहायक ब्यूटी थेरेपिस्ट कोर्स की भी शुरुआत करवाई है।

कैबिनेट मंत्री ने कैदियों को कोर्स का लाभ उठाकर नई जिंदगी की शुरुआत करने का आह्वान किया। उन्होंने बताया कि पंजाब सरकार की तरफ से पंजाब प्रीजन डेवलपमेंट बोर्ड की स्थापना की गई है जिससे जेलों का सुधार कर कैदियों को मुख्य धारा में लाया जा सके। कैदियों की तरफ से बनाए जाने वाले सामान के लिए पंजाब सरकार की तरफ से अलग -अलग कंपनियों के साथ 4 एमओयू साइन किए गए हैं जिसके तहत उनकी तरफ से तैयार किए समान की खरीद और ब्रांडिंग करेंगे।

उन्होंने एडीजीपी जेल प्रवीन कुमार सिन्हा से कहा कि वह रेल प्रशिक्षक फैक्ट्री के जनरल मैनेजर के साथ बातचीत कर केंद्रीय जेल कपूरथला में प्रशिक्षण प्रबंधों को और पुख्ता तथा तैयार सामान की उपभोग का प्रबंध करे। उन्होंने कैदियों की मुश्किलें भी सुनी और विजिटर बुक में अपना संदेश भी दर्ज किया। उन्होंने कैदियों की तरफ से तैयार किए झूले, सेनेटरी का समान, गमला स्टैंड, पार्लर का समान आदि का भी निरीक्षण किया।

कैदियों की शिक्षा के लिए 'शिक्षा रहमत' प्रोग्राम 13 दिसंबर से

एडीजीपी जेल परवीन कुमार सिन्हा ने बताया कि पंजाब जेल विभाग की तरफ से कैदियों की शिक्षा के लिए 'शिक्षा रहमत' और उनको पूरे परिवार के साथ मुलाकात करवाने की व्यवस्था के लिए 'गलवकडी' प्रोजेक्ट 13 दिसंबर से शुरू किया जा रहा है। 'शिक्षा रहमत' प्रोजेक्ट के अंतर्गत कैदियों के लिए 10वीं कक्षा नेशनल ओपन स्कूल के अंतर्गत करवाई जाएगी, जिसके लिए रजिस्ट्रेशन भी 13 दिसंबर से ही शुरू हो रही है। इसके अलावा अनपढ़ कैदियों के लिए हस्ताक्षर करने और अक्षर की पहचान के लिए प्राथमिक ट्रेनिग दी जाएगी। कैदियों के लिए 181 हेल्पलाइन शुरू की गई है जिसपर कैदी जेल बीच वाले पीसीओ से अपनी समस्या दर्ज करवा सकेंगे। रोजगार उत्पति विभाग के अतिरिक्त मिशन डायरेक्टर राजेश त्रिपाठी ने कैदियों को जेलों में चलाए जा रहे कोर्स के बारे में जानकारी दी।

कैदियों ने भंगड़ा डालकर मन मोहा

केंद्रीय जेल कपूरथला में आयोजित समारोह के दौरान कैदियों की तरफ से भंगड़ा और गिद्दा पेश कर उपस्थित लोगों का मनोरंजन किया गया।इससे पहले जेल में कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह को गार्ड आफ आनर दिया गया। जेल सुपरिंटेंडेंट गुरनाम लाल ने उनका स्वागत किया। इस अवसर पर आइजी जेल, रुप कुमार अरोड़ा, डीआइडी जेल सुखमिंदर सिंह, डीआइजी जेल अमनीत कौंडल, एसएसपी हरकमलप्रीत सिंह खख, अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर विकास एसपी आंगरा, सुपरिंटेंडेंट अनुराग कुमार, एसपी. जसबीर सिंह, कांग्रेस नेता अमनदीप सिंह गोरा गिल, पार्षद नरिदर मनसू और दीपक सलवान भी मौजूद थे।

Edited By: Jagran