जागरण संवाददाता, कपूरथला। रेल कोच फैक्ट्री (आरसीएफ) कपूरथला ने भारतीय रेलवे की प्रथम एलएचबी डिजाइन पर आधारित उच्च क्षमता वाली पार्सल वैन के निर्माण का गौरव हासिल किया है। इससे पहले देश में आइसीएफ डिजाइन वाली कंनवेशनल पार्सल वैन चल रही है। जर्मन की एलएचबी तकनीक वाली यह पहली पार्सल वैन है, जिसे आरडीएसओ ने 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने का प्रमाण पत्र दिया है, जबकि आइसीएफ डिजाइन वाले पार्सल वैन लगभग 100 किलोमीटर की रफ्तार से ही दौड़ सकते थे। इस पार्सल वैन की भार लेकर जाने की क्षमता 24 टन है, जिसमें 16 मिमी की साउंड इंसूलेटड फ्लोरिग लगाई गई है। वह इस वन को उत्तम राइडिग इंडेक्स प्रदान करती है। इस कोच में सभी अंदरूनी पैनलिग इत्यादि स्टेनलेस स्टील से की गई है। वह इसकी संरचना को ओर मजबूती प्रदान करती है। पार्सल वैन की छत में उत्तम क्वालिटी का ग्लास वूल लगाया गया है जो वैन के अंदरूनी तापमान को नियंत्रित रखता है। आरसीएफ इससे पहले हाई स्पीड तेजस, हमसफर, राजधानी, शताब्दी इत्यादि यात्री डिब्बें के अलावा डाक सेवा के लिए पोस्टल वैन, रेफ्रीजरेटेड वैन आदि का भी निर्माण कर चुकी है। तेजस देश का सबसे तेज 200 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ने की क्षमता रखता है, जिसमें यात्रियों को कई अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध है। इसके अलावा हमसफर भी यात्रियों की पहली पसंद बना हुआ है।

वैन को ट्रायल के लिए भेजा

आरसीएफ के जन संपर्क अधिकारी जितेश कुमार ने बताया कि आरडीएसओ ने एलएचबी पार्सल वैन के डिजाइन को स्पीड सर्टिफिकेट जारी कर दिया है और अब इसे प्रथम ओसिलेशन ट्रायल के लिए रवाना कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि आरडीएसओ द्वारा इसके ट्रायल किए जाएगे और ट्रायल में पास होने के बाद रेलवे बोर्ड द्वारा अन्य पार्सल वैन बनाने का ऑर्डर दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!