हरनेक सिंह जैनपुरी, कपूरथला

भारतीय हाकी टीम ने तीन बार के विश्व चैंपियन आस्ट्रेलिया को मात देकर पहली बार ओलिंपिक के सेमीफाइनल में पहुंच कर इतिहास रचा है। भारतीय टीम की मिड फील्डर नवजौत कौर का कहना है कि आस्ट्रेलिया को शिकस्त देने के लिए भारतीय टीम ने यूरोपीयन स्टाइल में खेलों में बेहतर प्रदर्शन किया। भारतीय टीम ने 4-4-3 के कंबीनेशन उम्दा प्रदर्शन करते हुए रक्ष पंक्ति व आक्रमण में पैनी नजर रखी।

भारतीय महिला टीम की मिड फील्डर नवजौत कौर ने दैनिक जागरण के साथ बातचीत में कहा कि खुशी व्यकत करते हुए कहा कि उसके लिए इस खुशी शब्दों में बया करना मुश्किल है। भारतीय टीम पिछले चार साल से कड़ी मेहनत कर रही थी, लेकिन ओलिंपिक में बेहद टफ पूल होने की वजह लगातार तीन हार से प्रशंसकों में कुछ मायूसी आ गई थी, लेकिन भारत ने पूल के अंतिम दोनों मैच जीत कर क्वार्टर फाइनल में दाखिल होने के बाद आस्ट्रेलिया से निपटने के लिए अलग रणनीति बनाई।

नवजोत ने बताया कि यूरोपीयन टीम विपक्षी खिलाड़ियों के खेल स्टाइल की वीडियो देख कर उनको घेरने की रणनीति बनाती है, इस बार भारत ने भी इस हथियार को आजमाया है, जिससे काफी मदद मिली है। भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी फिजीकल फिटनेस होती है, लेकिन इस बार दुनिया की किसी भी टीम से कम नहीं है। पहले मैचों में हमने गोल करने के कई मौके गवाए, जिसके बाद टीम कोच की तरफ से खिलाड़ियों को अवसर को गोल में बदलने और डिफेंस को मजबूत बनाने का मंत्र दिया, जिससे टीम ने करोड़ों भारतीयों का सपना साकार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

उन्होंने बताया कि टीम के प्रमुख कोच व समूची टीम स्टाफ और करोड़ों भारतीय की लगातार स्पोर्ट से यह जीत संभव हो पाई है। अब बुधवार को सेमीफाइनल में अर्जेटीन से मुकाबला होगा। फाइनल में पहुंचने के लिए भारत के पास अच्छा मौका है।

Edited By: Jagran