जागरण संवाददाता, कपूरथला : केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री रोजगार सृजन प्रोग्राम (पीएमईजीपी) योजना के तहत बेरोजगार लोगों को लोन दिलाने के नाम पर एक निजी एजेंसी की तरफ से पैसे ऐंठे जा रहे रहे हैं। सूबे में सक्रिय गिरोह द्वारा शहर के लोगों से मोटी रकम ऐंठने के कुछ मामले सामने आए हैं। इस मामले में कुछ शिकायतें जिला उद्योग केंद्र और जिला प्रशासन के पास भी पहुंची हैं, लेकिन अभी तक उनपर कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है।

ये मामला उद्योग मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली के दरबार में भी पहुंचा गया है, जिन्होंने इस मामले का फौरी संज्ञान में लेने की बात करते हुए सख्त एक्शन लेने को कहा है। अब देखना होगा कि ठगी का मामला मंत्री के ध्यान में आने के बाद विभाग क्या कार्रवाई करता है। उल्लेखनीय है कि पीएमईजीपी के तहत अर्बन एरिया में प्रार्थी पुरुष को 15 और महिला को 25 प्रतिशत और रुरल एरिया में पुरुष प्रार्थी को 25 प्रतिशत और महिला प्रार्थी को 35 प्रतिशत लोन की जाने वाली राशि पर सब्सिडी का प्रावधान है। यह प्रोग्राम निरोल उन लोगों के लिए शुरू किया गया है, जो आर्थिक तौर पर सुदृढ़ न होने के चलते स्वरोजगार शुरू नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा ऐसे वर्ग को आत्मनिर्भर बनाने के लिए रोजगार शुरू करने के लिए रोजगार के मुताबिक रकम लोन पर दी जा रही है।

लोन दिलाने के नाम पर ऐंठ लिए 25 हजार : तरसेम सिंह

सूबे में कुछ निजी एजेंसियां व लोग सक्रिय हो गए हैं, जो प्रार्थी को लोन दिलाने के नाम पर 25 से 30 हजार रुपये बतौर सुविधा शुल्क ऐंठ रहे हैं। जिला कपूरथला की बात करें तो यहां पर करीब अभी तक 25-30 मामले सामने आए हैं। ऐसी शिकायतों का आना लगातार जारी है। एक भुक्तभोगी तरसेम सिंह निवासी गांव नानकपुर ने बताया कि वह एक्स सर्विसमैन है। लाकडाउन के चलते उसका कामधंधा बिल्कुल ठप हो गया। इस पर उसने पीएमईजीपी के तहत लोन लेने की सोची तो जिले में सक्रिय एक प्राइवेट एजेंसी के लोगों ने लोन दिलाने के नाम से उससे 25 हजार रुपये ऐंठ लिए। उसने पहले जीएम जिला उद्योग केंद्र से संपर्क किया। फिर 19 अक्टूबर को डीसी कम चेयरमैन पीएमईजीपी और 20 अक्टूबर को एसएसपी कपूरथला से शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। फिर उसने उद्योग मंत्री पंजाब गुरकीरत सिंह कोटली को 23 नवंबर को शिकायत भेजी। ऐसा गौरखधंधा चलाने वालों पर सख्त कार्रवाई की गुहार लगाई है। तरसेम के अनुसार एजेंसी वाले लोगों का साफतौर पर कहना है कि वह अब तक 100 से ज्यादा लोगों का लोन पास करवा चुके हैं। जिला उद्योग केंद्र के कई लोग उनसे जुड़े हुए हैं। उसके अनुसार चेयरमैन-कम-डीसी ने उसकी शिकायत कार्रवाई के लिए एसएसपी कपूरथला को मार्क की है। मंत्री कोटली बोले, मामला ध्यान में, कार्रवाई करेंगे

जिला उद्योग केंद्र के जीएम सिमरजोत सिंह ने मामला डीसी के पास होने की बात कह कर पल्ला झाड़ लिया। उद्योग मंत्री पंजाब गुरकीरत सिंह कोटली ने कहा कि यह मामला मीडिया के जरिए उनके ध्यान में आया है। इसमें किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। प्रशासनिक अधिकारियों से बात करके ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा। पंजाब सरकार भ्रष्टाचार पर जीरो टोलरेंस पालिसी पर काम कर रही है।

Edited By: Jagran