संवाद सहयोगी, कपूरथला : लगातार सड़क दुर्घटनाओं में बढ़ोतरी हो रही है। इससे बहुत सी जिदगियां मौत की नींद सो चुकी है। शहर के अलग-अलग स्कूलों में हर रोज ट्रैफिक इंचार्ज दीपक शर्मा और एएसआइ गुरबचन सिंह ट्रैफिक एजुकेशन सेल विद्यार्थियों को जागरूक कर रहे हैं। अध्यापकों, विद्यार्थियों और अभिभावकों से अपील कर रहे हैं कि बच्चों को वाहन चलाने के लिए न दें। इससे जहां ट्रैफिक की समस्या पैदा होती है, वहीं सड़क दुर्घटनाओं में भी बढ़ोतरी हो रही है। यदि माता-पिता बच्चों को वाहन चलाने के लिए देते हैं तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जा सकती है। उन्होंने कहा कि 16 से 18 वर्ष की आयु पूरी होने पर अपने बच्चों को वाहन की पूरी जानकारी देने के बाद ही वाहन चलाने के लिए दे। वाहनों की सही जानकारी न होने के कारण भी सड़क हादसे होते हैं। सड़क हादसों और मौत का बड़ा कारण तेज रफ्तार, हेलमेट का न पहनना, वाहन चालकों की ओर से सड़की यातायात के नियमों की अनदेखी, ट्रेनिग का न होना, वाहनों की तेज रोशनी और प्रेशर हार्न भी है। उन्होंने कहा कि इन सड़क हादसों में मरने वालों में अधिकतर नौजवान वर्ग शामिल है। इस अवसर पर एएसआइ दिलबाग सिंह टांडी, एएसआइ बलविंदर सिंह आदि उपस्थित हुए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!