अमित ओहरी, फगवाड़ा

फगवाड़ा विधान सभा हल्के से कांग्रेस की टिकट को लेकर लंबे समय से चली आ रही कशमकश आखिरकार शनिवार को खत्म हो गई। सेवानिवृत्त आइएएस बलविदर सिंह धालीवाल को लगातार दूसरी बार कांग्रेस के हाथ का साथ मिला है। फगवाड़ा हलके से कांग्रेस की टिकट के लिए पूर्व मंत्री जोगिदर सिंह मान, पंजाब महिला कांग्रेस की प्रधान बलबीर रानी सोढी, पूर्व विधायक त्रिलोचन सिंह सूंढ, नगर सुधार ट्रस्ट के चेयरमैन सोहन लाल बंगा, मार्केट कमेटी के वाईस चेयरमैन जगजीवन खलवाड़ा के बीच कांटे की टक्कर चल रही थी लेकिन कांग्रेस ने मौजूदा विधायक बलविदर सिंह धालीवाल पर ही दाव खेलना उचित समझा है। कांग्रेस हाईकमान की ओर से करवाए गए सर्वे भी धालीवाल के ही हक में आए बताए जाते हैं। धालीवाल की ओर से प्रदेश कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू की करवाई गई सफल रैली को आधार बना पार्टी हाईकमान ने धालीवाल को चुनावी दंगल में उतारा है।

बीते करीब 18 साल से फगवाड़ा में रह रहे 29 नवंबर, 1961 में जन्मे बलविदर सिंह धालीवाल (रिटायर्ड आईएएस) मूल रूप से लुधियाना के रहने वाले हैं और वह वाल्मीकि मजहबी सिख समुदाय से संबंध रखते है। साल 1992 में कपूरथला से एक्जीक्यूटिव मेजिस्ट्रेट व पब्लिक ग्रीवियंस अफसर के पद से सरकारी नौकरी शुरू करने वाले बलविदर सिंह धालीवाल में जालंधर में पंजाब लैंड रिका‌र्ड्स, सेटलमेंट, कंसालिडेशन एंड लैंड एक्वीजीशन के पद पर तैनात थे। इनके अलावा टिकट की दौड़ में शामिल रहे पूर्व मंत्री जोगिदर सिंह मान ने फगवाड़ा हलके से छह बार चुनाव लड़ा, इसमें उन्हें तीन बार जीत मिली व तीन बार हार का सामना करना पड़ा। हालांकि अब पूर्व मंत्री जोगिदर सिंह मान कांग्रेस छोड़कर आप में शामिल हो चुके हैं।

फगवाड़ा हलके को कभी कांग्रेस का मजबूत गढ़ माना जाता था। कांग्रेस में गुटबाजी चरम सीमा पर चल रही थी, इसी के चलते फगवाड़ा विधान सभा क्षेत्र से कांग्रेस पिछड़ती गई व उसे पिछले तीन विधान सभा चुनावों साल 2007, 2012 व 2017 में हार का मुंह देखना पड़ा। इसी हार के मिथक को तोड़ने के मकसद से साल 2019 में फगवाड़ा विधानसभा हलके के हुए उपचुनाव में कांग्रेस हाईकमान ने नए चेहरे बलविदर सिंह धालीवाल (रिटायर्ड आइएएस) पर भरोसा जताकर उन्हें चुनावी मैदान में उतार था और उन्होंने 26 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की थी। इसी के चलते कांग्रेस हाईकमान ने अब दोबारा लगातार दूसरी बार विधायक धालीवाल पर भरोसा जताकर 14 फरवरी को होने जा रहे विधानसभा चुनावों में फिर से विधायक धालीवाल को चुनावी मैदान में उतारा है।

कांग्रेस में गुटबाजी खत्म करना रहेगी चुनौती

अब विधायक के सामने फगवाड़ा कांग्रेस में गुटबाजी को खत्म करके सभी को अपने साथ चलाने की बड़ी चुनौती होगी। वहीं विधायक बलविदर सिंह धालीवाल ने फगवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से उन्हें उम्मीदवार बनाए जाने पर कांग्रेस प्रधान सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी सहित पंजाब कांग्रेस के इंचार्ज हरीश चौधरी, पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू, सुनील जाखड़ व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने उन पर जो विश्वास जताया है। वह उसके लिए पार्टी के आभारी है।

बीएस धालीवाल को टिकट मिलने से समर्थकों में खुशी की लहर

बलविदर सिंह धालीवाल (रिटायर्ड आइएएस) को कांग्रेस की टिकट मिलने पर उनके समर्थकों में खुशी की लहर पाई जा रही है। कांग्रेस हाईकमान की ओर से शनिवार को जैसे ही फगवाड़ा हलके से चुनाव लडऩे के लिए धालीवाल के नाम की घोषणा की गई तो उनके आवास पर समर्थक पहुंचना शुरू हो गए। समर्थकों ने धालीवाल का स्वागत कर जहां खुशी में आतिशबाजी की, वहीं ढोल की थाप पर भंगड़ा भी डाला। इसी बीच टिकट मिलने के बाद घर पहुंचे बीएस धालीवाल का पारिवारिक सदस्यों व समर्थकों ने तिलक कर घर के अंदर प्रवेश करवाया।

कहीं खुशी, कहीं गम

फगवाड़ा विधान सभा सीट के लिए 14 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस हाईकमान की ओर से शनिवार को जैसे ही टिकट की घोषणा की गई, इससे कहीं खुशी, कहीं गम जैसा माहौल बन गया। इस दौरान जहां बीएस धालीवाल समर्थक पूरी तरह से खुश नजर आए। वहीं टिकट के अन्य दावेदारों के समर्थकों के चेहरों पर चिता की लकीरें साफ नजर आ रही थी व उनमें मायूसी छाई हुई थी।

कांग्रेस भी भाजपा की राह पर रिटायर्ड आइएएस को चुनाव मैदान में उतारा

फगवाड़ा में कांग्रेस भी भाजपा की राह पर चलती नजर आ रही है। भाजपा ने साल 2012 में रिटायर्ड आईएएस अफसर सोम प्रकाश को फगवाड़ा विधान सभा हलके से चुनावी मैदान में उतारा था। भाजपा का यह दाव पूरी तरह से फिट बैठा। ऐसे में सोम प्रकाश पहले 2012 में चुनाव जीत कर विधायक बने। फिर 2017 में उन्होंने लगातार दूसरी बार चुनाव जीता। इसके बाद पार्टी ने उन्हें 2019 में लोकसभा हलका होशियारपुर से चुनावी मैदान में उतारा। इसमें भी उन्होंने जीत दर्ज की और वह इस समय केंद्र की मोदी सरकार में केन्द्रीय उद्योग व कामर्स राज्यमंत्री है। अब कांग्रेस भी भाजपा की राह पर चलती नजर आ रही है। ऐसे में अब कांग्रेस ने भी लगातार दूसरी बार बलविदर सिंह धालीवाल (रिटायर्ड आईएएस) को फगवाड़ा हलके से चुनावी दंगल में उतार दिया है।

बीएस धालीवाल की यहां यहां रही तैनाती

मई 192 से अगस्त 194 : एक्जीक्यूटिव मेजिस्ट्रेट व पब्लिक ग्रीवीयंस अफसर (कपूरथला)

अगस्त 194 से जनवरी 198 : एसडीएम सुल्तानपुर लोधी (कपूरथला)

जनवरी 198 से मार्च 198 : एसडीएम बाबा बकाला

मार्च 1998 से अगस्त 2001 : एसडीएम भुलत्थ (कपूरथला)

अगस्त 2001 से सितंबर 2001 : एलएसी, इंडस्ट्रीज डिपार्टमेंट, चंड़ीगढ़

सितंबर 2001 से जून 2005 : एसडीएम दसूहा (होशियारपुर)

जून 2005 से अप्रैल 2007 : एसडीएम फगवाड़ा (कपूरथला)

अप्रैल 2007 से जुलाई 2011 : डीटीओ होशियारपुर

जुलाई 2011 से मई 2012 : नगर निगम कमिश्नर, जालंधर

मई 2012 से जून 2013 : एडीसी होशियारपुर

जून 2013 से नवंबर 2016 : डीसी, तरनतारन

नवंबर 2016 से मार्च 2017 : डीसी, फिरोजपुर

मार्च 2017 से जून 2017 : चीफ एडमिनीस्ट्रेटिव गलाडा, लुधियाना

जून 2017 से सितंबर 2017 : एडीशनल रजिस्ट्रार को. आप्रेटिव डिपार्टमेंट

सितंबर 2017 से मार्च 2018 : एडीशनल एसटीसी, स्टेट ट्रांसपोर्ट कमिश्नर

मार्च 2018 से जुलाई 2018 : डीसी, मानसा

जुलाई 2018 से फरवरी 2019 : डीसी, फिरोजपुर

फरवरी 2019 से अक्टूबर 2019 : निदेशक, पंजाब लैंड रिका‌र्ड्स, सेटलमेंट, कंसालिडेशन एंड लैंड एक्वीजीशन

Edited By: Jagran