संवाद सहयोगी, नडाला/सुभानपुर : पंजाब पुलिस के एएसआइ की ओर से सात मई को कबड्डी खिलाड़ी अरविदर पहलवान की गोली मारकर हत्या करने व उनके साथी प्रदीप पड्डा को घायल करने के विरोध में गांव लखण के पडडे में कैंडल मार्च निकाला गया। यह कैंडल मार्च उसके घर से शुरू हो कर गांव की गलियों से होते हुए घटना स्थल (चौराहे) पर समाप्त हुआ। इस दौरान गांव के बुजुर्ग, महिलाओं व युवा वर्ग ने भाग लिया।

पूर्व सरपंच व स्पो‌र्ट्स क्लब के प्रधान शरणजीत सिंह पड्डा, कामरेड महिदर सिंह पड्डा, मास्टर शिदा सिंह ने संयुक्त तौर पर कहा कि अरविदर पहलवान की मौत से खेल जगत को क्षति पहुंची है। वहीं प्रदीप पड्डा घायल होने की वजह से खेलने में असमर्थ होकर रह गया है। दोनों परिवारों के एक-एक सदस्यो को सरकारी नौकरी व पचास लाख का मुआवजा दिया जाए। आरोपित एएसआइ को कड़ी सजा दी जाए। इस दौरान अरविदर सिंह अमर रहे के नारे लगाए गए। ग्रामीणों के आंखों में सरकार के खिलाफ रोष साफ झलक रहा था। इस मौके पर रोशन लाल विरली, किक्की पड्डा, कबड्डी खिलाड़ी गोपी पड्डा, इंद्रजीत सिंह पड्डा, मंगल सिंह लाडी, गुरप्रीत सिंह पड्डा, ओंकार सिंह साही, हरजीत सिंह रंधावा, लवजोत सिंह, जसविदर सिंह पंच, मनजिदर सिह पड्डा व गांववासी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!