संवाद सूत्र, फिल्लौर। जालंधर के फिल्लौर में छह महीने के नवजात बच्चे को मंगलवार रात 12 बजे सड़क किनारे फेंक महिला भाग गई। पुलिस ने बुधवार सुबह छह बजे बच्चे को अस्पताल पहुंचाया, जहां उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। गांव लांहदड़ा में नवजन्मे बच्चे को महिला गांव की सड़क किनारे फेंक कर चली गई। सीसीटीवी कैमरे को खंगालने से पुलिस को पता चला कि रात्रि 12 बजे एक महिला हाथ में बच्चा लेकर बरसात में पैदल आ रही थी, जो बच्चे को सड़क के पास फेंक कर चली गई। सुबह गांव के एक व्यक्ति ने बच्चे को देखा तो पुलिस को सूचित किया। छह घंटे तक बच्चा तेज बरसात में खुले आसमान के नीचे पड़ा रहा। सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंच नवजात बच्चे को गांव अपरा के प्राइवेट अस्पताल में दाखिल करवाया। डाक्टरों के मुताबिक बच्चा छह महीने का है और वह जीवित था। उसका 30 प्रतिशत तक दिल धड़क रहा था। डाक्टरों ने बच्चे को बचाने में पूरी कोशिश की। आखिरकार सात घंटे बाद दोपहर में बच्चे ने दम तोड़ दिया। थाना प्रभारी इंस्पेक्टर संजीव कपूर ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज कर महिला की तलाश शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें- सीईओ पर हमला करने आए युवक ने दो को किया घायल

कैंटोनमेंट बोर्ड के सीईओ ज्योति कुमार पर हमला करने की मंशा से पहुंचे युवक को बुधवार को गेटकीपर व ड्राइवर ने रोका तो उसने दोनों पर हमला कर घायल कर दिया। युवक दो दिन से किसी मामले संबंधी कैंट बोर्ड में हल्ला कर रहा था। बुधवार को युवक शराब की खाली बोतल लेकर सीईओ से मिलने की जिद करने लगा। चौकीदार ¨प्रस व ड्राइवर प्रितपाल सिंह ने उसे रोका तो उसने दोनों पर हमला कर दिया। पुलिस ने युवक को पकड़ लिया। सीईओ ज्योति कुमार ने बताया कि युवक का नाम पट्टा बताया जा रहा है। वह दो दिन से किसी डेथ केस संबंधी अधिकारियों और कर्मियों को तंग कर रहा था।

यह भी पढ़ें-  Good News : 54 फीसद बच्चों को हुआ कोरोना, पता भी नहीं लगा और ठीक हो गए; एंटी बाडी हुई विकसित

यह भी पढ़ें-  Coronavirus Vaccination : जालंधर में पहुंची 24 हजार कोविशील्ड और तीन हजार कोवैक्सीन की डोज, आज यहां लगेंगे कैंप

 

Edited By: Vinay Kumar