़जागरण संवाददाता, जालंधर : कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ वैक्सीन लगवाने वालों में भी उत्साह बढ़ रहा है। वहीं सरकारी व गैर-संस्थानों में निजी कार्य के लिए जाने पर वैक्सीन की दोनों डोज लगवाना अनिवार्य होने के बाद लोग सजग हो गए है। रोजाना 20 हजार वैक्सीन की डोज लगाने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सेहत विभाग ने रविवार को भी वैक्सीन की डोज लगाने की स्टाफ को हिदायतें जारी कर दी है। शनिवार को ठंड के बावजूद वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों में उत्साह बरकरार रहा। सेहत विभाग ने भी जिले में 193 सेंटरों में 14,277 लोगों को वैक्सीन की डोज लगाई। इनमें 15 से 17 साल के 369 तथा बूस्टर डोज वाले 910 लोग शामिल है। शनिवार को ठंड के बावजूद सरकारी व गैर-सरकारी संस्थानों में वैक्सीन लगवाने के लिए आने वालों की लंबी लाइनें लगी रही। लाइनों में लगे ज्यादातर लोगों ने मास्क की जगह मुंह पर कपड़ा लपेटा हुआ था। मामले को लेकर किसी अधिकारी ने भी संज्ञान नहीं लिया।

सिविल सर्जन डा. रणजीत सिंह ने कहा कि सिविल सर्जन आफिस में निजी कार्य के लिए आने वालों लोगों के लिए दोनों डोज लगी होने के नियम के सख्ती से लागू करने के लिए बोर्ड लगवा दिए है। इसी तरह अन्य कार्यालयों में भी नियमों को सख्ती से लागू करवाने के लिए पुरजोर प्रयास चल रहे है। उन्होंने लोगों को कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाने के साथ-साथ मास्क लगाने और दो मीटर की शारीरिक दूरी के नियम का पालन करने की अपील भी की। तीन लाख डोज का स्टाक उपलब्ध

जिला टीका अधिकारी डा. राकेश चोपड़ा ने बताया कि लोगों में उत्साह को देखते हुए सेहत विभाग रविवार को भी सरकारी व गैर-सरकारी सेंटरों में वैक्सीन की डोज लगाएगा। विभाग के पास जिले में करीब साढ़े तीन लाख डोज पड़ी है। शनिवार को जिले में 14,277 डोज लगने के साथ कुल संख्या 26,40,485 तक पहुंची। इनमें 15,52,704 पहली, 10,83,584 दूसरी तथा 4,197 बूस्टर डोज वाले शामिल है।

Edited By: Jagran