जेएनएन, अमृतसर/तरनतारन। अमृतसर के सांसद गुरजीत सिंह औजला और खडूर साहिब के सांसद जसबीर सिंह डिंपा बुधवार को काला चोला पहनकर संसद भवन पहुंचे, जिस पर लिखा था- ''मैं किसान हूं, मैं मजदूर हूं, मुझसे धोखा मत करो।'' इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि अध्यादेश का विरोध जताया। औजला ने कहा कि केंद्र सरकार के अध्यादेश किसान विरोधी हैं, पर कांग्रेस पंजाब व देश के किसानों को मरने नहीं देगी। वहीं, डिंपा ने कहा कि अध्यादेश के विरोध में वह इसी वेश में संसद में आते रहेंगे।

संसद भवन के बाहर औजला ने कहा, ''कृषि अध्यादेश के जरिये केंद्र सरकार किसानी को बर्बाद करने पर तुली है। इससे छोटा किसान खत्म होकर रह जाएगा। छोटा किसान इतना पढ़ा-लिखा नहीं है कि वह कारपोरेट घरानों के साथ एग्रीमेंट कर सके। साथ ही मंडियां भी खत्म की जा रही हैं, जिसका सीधा नुकसान किसानों का होगा। कांग्रेस किसानों को निजी हाथों में बिकने नहीं देगी।''

सांसद डिंपा ने कहा कि केंद्र सरकार के इस अध्यादेश से किसान बड़े घरानों की चाकरी करने के लिए मजबूर हो जाएगा। इसके विरोध में देशभर में किसान और मजदूर धरने दे रहे हैं। उनके सब्र का इम्तिहान न लिया जाए। साथ ही हैरानी की बात है कि किसानों और मजदूरों के साथ हो रही धक्केशाही को लेकर शिरोमणि अकाली दल भी भाजपा के साथ है।

पंजाब प्रभारी हरीश रावत से की बैठक

सांसद डिंपा ने पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत के साथ बैठक भी की। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की आड़ में मोदी सरकार द्वारा बड़े घरानों को खुश करने लिए नया काला कानून लाया जा रहा है। इसके तहत कोई भी किसान 17 एकड़ से अधिक जमीन नहीं रख पाएगा। पंजाब में कांग्रेस इस अध्यादेश के विरोध में किसानों और मजदूरों के पक्ष में खड़ी है।

Posted By: Kamlesh Bhatt

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!