जालंधर, अंकित शर्मा : शिक्षा मंत्री परगट सिंह का दावा है कि कांग्रेस 80 फीसद सीटों के साथ वापसी करेगी, पर दो महीने तक शिक्षकों का उन्हीं के घर के साथ हलके में हुआ विरोध अब भी जारी है। शिक्षकों ने डोर टू डोर सरकार की नीतियों की पोल खोल रैलियां निकाली और लोगों को पंफ्लेट बांट कर सरकार के दावों की सच्चाई तक बताई थी।

चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद अब शिक्षकों का अंदरखाते कांग्रेस का विरोध जारी है। उन्होंने कांग्रेस का बायकाट करने तक की घोषणा कर दी है। अब वो कैंट हलके में शिक्षा मंत्री के खिलाफ प्रचार कर रहे हैं। बता दें कि परगट सिंह से पहले तीन शिक्षा मंत्री कांग्रेस के साढ़े चार साल के कार्यकाल में ही बदले जा चुके हैं। पहले शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी, फिर विजय इंद्र सिगला ने भी शिक्षकों से बैठकें करके उनके मुद्दे हल करने चाहे थे, पर नहीं कर पाए थे। इसके बाद खुद परगट सिंह ने शिक्षा और स्पो‌र्ट्स विभाग मांगा था। उनका यही मानना था कि शिक्षा-स्पो‌र्ट्स आपस में जुड़ते हैं और इन्हें मिलाकर ही बेहतर विकास किया जा सकता है। इसके बावजूद परगट सिंह अपने दावे पर अटल हैं। उनका कहना है कि वे जीतेंगे भी और अपने विभाग फिर से लेकर वापसी भी करेंगे, ताकि जो कमियां रह गई हैं उन्हें दूर कर आने वालों के लिए माडल प्रस्तुत कर सकूं।

बता दें कि परगट सिंह के घर के बाहर शिक्षक पिछले काफी समय से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। शिक्षकों का मानना है कि मंत्री परगट सिंह ने उनकी मांगों पर कोई कार्रवाई नहीं की।

Edited By: Jagran