जालंधर [मनुपाल शर्मा]। जालंधर में पंजाब रोडवेज, पनबस एवं पीआरटीसी के कांट्रेक्ट मुलाजिमों की हड़ताल यात्रियों पर भारी मुसीबत बनकर टूट रही है। अलसुबह से यात्रियों के लिए पर्याप्त संख्या में बसें उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। पंजाब की सरकारी बसों के अभाव में पड़ोसी राज्यों एवं निजी आपरेटरों की बसें चांदी कूट रही हैं। पंजाब रोडवेज, पनबस, पीआरटीसी कॉन्ट्रैक्ट मुलाजिम यूनियन सोमवार मंगलवार की मध्य रात्रि 12 बजे से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई है। इसकी वजह से आसपास के राज्यों समेत पंजाब के भीतर भी बस कनेक्टिविटी बुरी तरह से प्रभावित हुई है।

जालंधर से अमृतसर, बटाला, गुरदासपुर, तरनतारन, पट्टी आदि स्टेशनों के लिए बसों की भारी किल्लत है। वहीं, पंजाब से दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा और हिमाचल को लंबे रूट पर जाने वाली बसों की भी किल्लत हो गई है। 

छोटे स्टेशनों पर जाने वाले यात्री परेशान

यात्रियों के भारी रश को देखते हुए पड़ोसी राज्यों एवं निजी ऑपरेटरों की बसें मात्र लॉन्ग रूट की सवारी को ही अधिमान दे रही हैं। छोटे स्टेशनों पर जाने वाले यात्रियों के लिए बस सेवा उपलब्ध नहीं हो पा रही है। नौकरी पेशा यात्रियों के लिए गंतव्य तक पहुंच पाना एक बड़ी चुनौती बन गया है।

जालंधर के शहीद-ए-आजम अंतरराज्यीय बस स्टैंड पर बसों के लिए भटकते हुए यात्री। 

अंतरराज्यीय रूट भी प्रभावित

अंबाला कैंट, यमुनानगर, दिल्ली, रेवाड़ी, फरीदाबाद, हरिद्वार, पीलीभीत, जयपुर आदि के लिए जाने वाली पंजाब रोडवेज की बस सर्विस बिल्कुल ठप पड़ी हुई है। पड़ोसी राज्यों की इक्का-दुक्का बसें इन रूटों के ऊपर आवागमन कर रही है। वहीं, दूसरी तरफ कॉन्ट्रैक्ट मुलायम डिपों के गेट के ऊपर दरी बिछाकर धरने पर बैठ गए हैं। पंजाब रोडवेज प्रबंधन की तरफ से किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए डिपो में पुलिस बुलाई गई है, जो सुबह से ही तैनात है।

यह भी पढ़ें - चन्नी बोले- मैं सीएम नहीं, सिद्धू हैं; हाईकमान से मुलाकात के बाद बदली नजर आ रही दोनों नेताओं की केमिस्ट्री

Edited By: Vinay Kumar