कमल किशोर, जालंधर। बर्मिंघम कामनवेल्थ गेम्स रजत पदक जीतने वाली भारतीय टीम अपने पदक का रंग नहीं पदल पाई लेकिन इसमें जालंधर के हाकी स्टार वरुण कुमार भी टीम का खेल निखर कर सामने आया। हो भी क्यों ने उन्होंने पदक पर मुहर लगाने के लिए सुबह-शाम मैदान में पसीना बहाया था। अलग बात है कि फाइनल में टीम आस्ट्रेलिया के हाथों बुरी तरह हार गई। बर्मिंघम जाने से पहले गेम्स को लेकर ओलंपियन वरुण कुमार ने विशेष तैयारी की थी। प्रस्तुत हैं कमल किशोर की ओलंपियन वरुण कुमार से खास बातचीत के मुख्य अंश-

फिटनेस पर दिया विशेष ध्यान

बर्मिंघम जाने से पहले वरुण कुमार ने बताया था कि टीम में सभी युवा खिलाड़ी होने के कारण फिटनेस पर अधिक ध्यान दिया गया। किसी खिलाड़ी ने सुबह-शाम होने वाले ट्रेनिंग को मिस नहीं किया। हर कोई ट्रेनिंग में जुटा रहा। प्रो लीग में टीम ने कई टीमों के साथ मैच खेले, जिसका फायदा कामनवेल्थ गेम्स में मिला। 

वरूण ने कहा कि उन्होंने दूसरी बार कामनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लिया है। पिछले गेम्स में इंग्लैंड के खिलाफ एक गोल किया था। ड्रैग फ्लिक करने में थोड़ी परेशानी हो रही थी। इसे लेकर अभ्यास के दौरान सुधर पर काम किया। हर मैच पर फोकस किया और टीम एक रणनीति के तहत खेली। हमने शानदार प्रदर्शन किया लेकिन फाइलन मैच में अच्छा नहीं खेल सके। उन्होंने कहा कि जब किसी देश की टीम मैदान में उतरती है तो अपना बेहतर प्रदर्शनी करती है। टीम कोई कमजोर नहीं होती। हर टीम का अपना खेलने का तरीका है। इस कामनवेल्थ गेम्स में टीम को न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया से टक्कर मिली। 

टीम का हर खिलाड़ी फिट

टीम का कोई खिलाड़ी फिटनेस से नहीं जूझ रहा है। हर खिलाड़ी फिट है। टीम मैदान में बेहतर प्रदर्शन करने लिए तैयार है। हाकी में फिटनेस का होना जरुरी होता है। आने वाले दिनों में टीम बेहतरीन प्रदर्शन करेगी।

यह भी पढ़ें - Punjab: अमृतसर में पाक से आई हथियारों की बड़ी खेप बरामद, गुरदासपुर में दो पाकिस्तानी घुसपैठिए दबोचे

Edited By: Sanjay Pokhriyal