जालंधर [मनीष शर्मा]। सरकार लाख दावे करे कि पंजाब को नशामुक्त किया जा रहा है लेकिन जिस तादाद में नशा पकड़ा जा रहा है, उससे यह दावा दूर की कौड़ी लगता है। पुलिस कमिश्नरेट से लेकर जालंधर देहाती पुलिस ने पिछले एक साल में बड़ी मात्रा में नशा बरामद किया है। इससे पुलिस वाहवाही लूट सकती है लेकिन हकीकत यह भी है कि नशे की आमद रुकने का नाम नहीं ले रही। साल बीतने के बाद ज्यादा नशा पकड़ने को पुलिस उपलब्धि मान सकती है लेकिन इससे यह भी जाहिर होता है कि जालंधर नशे की मंडी बनता जा रहा है।

साल भर में 1,159 केसों में 1471 नशा तस्करों के गिरफ्तारी के आंकड़े और भारी मात्रा में नशे की आमद से यह स्पष्ट है कि न तो यहां नशा तस्करों की कमी है और न ही नशेड़ियों की। स्पेशल टास्क फोर्स बनाए जाने के बावजूद नशा तस्करों में पुलिस का कोई डर नहीं। कई नशा तस्कर पुलिस ने पकड़े लेकिन नशा तस्करी का गोरखधंधा बदस्तूर जारी है। पुलिस की डेपो मुहिम भी फिसड्डी साबित हुई, जिसके जिक्र तक से पुलिस कमिश्नरेट ने साल भर का लेखा-जोखा देते वक्त परहेज किया। शहर से लेकर देहात तक पुलिस तस्करी को पकड़ जरूर रही है लेकिन उसे कम करने में कामयाब नहीं हो पा रही। खासकर जालंधर देहात क्षेत्र में नशे को लेकर स्थिति चिंताजनक है।

जानिए कहां से कितना पकड़ा नशा

नशीला पदार्थ           पुलिस कमिश्नरेट            देहात पुलिस

हेरोइन                  9.51 किलो                   34.829 किलो

अफीम -               24.26 किलो                61.033 किलो

पाउडर                 825 ग्राम                    1.037 किलो

भुक्की                 6.19 क्विंटल                24.08 क्विंटल

स्मैक                 150 ग्राम                      50 ग्राम

गांजा                 17.349 किलो                53.745 किलो

चरस                  1.205 किलो                  35.850 किलो

कैप्सूल                9337                           68,458

इंजेक्शन             1730                            8,729

टैबलेट               14152                          2,03,902

सिरप                 280                              498

भांग                  ---------                          3.50 किलो

आइस              ---------                             80 ग्राम

केस दर्ज             247                               912  

गिरफ्तारी           321                              1150

दस महीने में 14,730 पहुंचे नशामुक्ति केंद्र

महज दस महीने में 14730 नशे के आदी नशामुक्ति केंद्र व ओट सेंटरों में पहुंचे। सिविल अस्पताल व नूरमहल के नशामुक्ति केंद्र में 6,496 और ओट सेंटरों 8,234 नशे के आदी पहुंचे। ओट सेंटरों में गांव शेखे में 3,332, नकोदर में 1731, फिल्लौर में 606, नूरमहल में 310, आदमपुर में 1060, करतारपुर में 338, अपरा में 427, शाहकोट में 262, काला बकरा में 79 और लोहिया खास में 89 नशे के आदी इलाज कराने आए।

शहर में 1.11 करोड़ की प्रॉपर्टी जब्त करने की मंजूरी

पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत भुल्लर के मुताबिक तीन केसों में पुलिस ने 1.11 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी जब्त करने की अप्रूवल ले ली है, जबकि दो केस 29 जून से डिप्टी कमिश्नर के पास अप्रूवल के लिए पेंडिंग हैं। प्रॉपर्टी जब्त वाले केसों में सदर पुलिस थाने के तीन केस हैं, जिनमें तीन की प्रॉपर्टी जब्त होनी है। जो दो केस पेंडिंग हैं, उनमें रामा मंडी के 50.52 लाख प्रॉपर्टी के दो केस और थाना सदर के 12.22 करोड़ के तीन केस हैं। इसके अलावा एनडीपीएस एक्ट व ट्रैफिक के मामले में 75 केसों में पकड़े 399 दोपहिया, 30 ऑटो व 23 फोर व्हीलर समेत कुल 442 वाहनों की बोली कर 16.89 लाख रुपये जुटाए गए। देहात में 68 कामर्शियल केस, 112 गिरफ्तार देहात पुलिस ने 38 किलो अफीम, 28 किलो हेरोइन, 1616 किलो भुक्की, 34 किलो चूरा पोस्त, 1825 इंजेक्शन, 1,09,510 कैप्सूल, 356 सिरप बरामदगी के केस में 68 कामर्शियल केस दर्ज किए हैं।

इनमें 112 आरोपितों को काबू किया गया। इन्हीं आरोपितों की प्रॉपर्टी जब्त होगी। देहात पुलिस ने साढ़े दस किलो से ज्यादा हेरोइन के साथ 12 केस में 15 अफ्रीकी नागरिक तस्कर भी काबू किए, जिसमें चार महिलाएं भी शामिल हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!