जालंधर, जेएनएन। आशिक राधेश्याम के साथ मिलकर पति की हत्या करने वाली प्रभावती से उसका बेटा राजेश दोबारा मिलना नहीं चाहता। पुलिस जब प्रभावती को रिमांड पर लेने के लिए अदालत में लेकर गई थी, तो उसका बेटा राजेश उसके पास आया और पूछा कि उसने ऐसा क्यों किया है। उसका कहना था कि राधेश्याम के साथ भाग जाने के बावजूद उसके पिता बाबू लाल उसे वापस ले आए और पूरे मान सम्मान के साथ रखा था।

राजेश ने रुंधे गले से कहा कि मां तुमसे यह उम्मीद नहीं थी, पिता ने माफ किया तो यह सिला दे दिया कि उनकी जान ही ले ली। अपनी मां को खूब खरी खोटी सुना कर उसने कहा कि वह अब कभी भी उसका चेहरा नहीं देखना चाहता है। वहीं, उसकी बेटी सरिता और ममता उससे मिलना ही नहीं चाहती थीं। उधर, फरार चल रहे राधेश्याम की तलाश में छापेमारी की जा रही है। थाना प्रभारी सुखजीत सिंह ने बताया कि एक टीम बना कर पंचकूला भेजी गई है। राधेश्याम का अपना मोबाइल और बाबू लाल का मोबाइल, दोनों की बंद जा रहे हैं।

बाबू लाल के मोबाइल से हुए फोन दे सकते हैं राधेश्याम की जानकारी

प्रभावती और राधेश्याम ने जब बाबू लाल का कत्ल किया था, तो उसके दो दिन बाद तक बाबू लाल के फोन से ही सभी को फोन कर रहे थे। उसने अपने दफ्तर, गांव और कुछ दोस्तों को फोन किए। पुलिस मान कर चल रही है कि यह सारे फोन उसने अपने छुपने की जगह बनाने के लिए किए हैं और साथ ही आर्थिक मदद लेने के लिए किए थे। अब उन नंबरों को पुलिस ट्रेस करवाने में जुटी है, ताकि राधेश्याम का पता लगाया जा सके।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!