जालंधर [सुक्रांत]। फ्रेंड्स कॉलोनी में रहने वाली पूर्व लेक्चरर आशिमा और उनके पति विकास की आत्महत्या का मामला पुलिस के लिए रहस्य बन गया है। अब दोनों का मोबाइल फोन इस रहस्य से पर्दा उठा सकता है। फिलहाल पुलिस को पता चला है कि आशिमा और विकास ने आत्महत्या से पहले कुछ लोगों को फोन किए थे, जिसमें हो सकता है उन्होंने उक्त कांग्रेस नेता का नाम लिया हो। यह भी पता चला है कि दोनों ने आत्महत्या से पहले फोन पर किसी से लड़ाई की थी, हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं है।

थाना एक के प्रभारी राजेश कुमार के मुताबिक, आशिमा के पिता रूप लाल का कहना था कि उसकी बेटी ने विकास से तंग आकर आत्महत्या की है। उनके बयानों पर विकास के खिलाफ केस दर्ज किया गया था, लेकिन अगले ही दिन विकास का शव मिलने से दर्ज हुए मामले का कोई मतलब नहीं रह जाता। अब विकास के खिलाफ दर्ज केस रद करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। विकास के रईया में रहते घरवालों को बयान देने के लिए बुलाया गया है। उनके बयानों के साथ विकास का डेथ सर्टिफिकेट लगाकर अदालत में पेश किया जाएगा, ताकि उसका केस खत्म करवाया जा सके।

बड़ा सवाल : क्या कांग्रेस नेता ने आत्महत्या के लिए उकसाया था

आशिमा और उसके पति विकास की आत्महत्या के मामले में एक कांग्रेस नेता का नाम भी सामने आ रहा है। कांग्रेस कमेटी के बड़े पद पर तैनात उक्त नेता पर आरोप लग रहा है कि वह किसी बात को लेकर आशिमा को ब्लैकमेल कर रहा था और विकास इसी बात पर उससे लड़ रहा था। वीरवार को पुलिस ने इलाके के कई लोगों से इस बारे में पूछताछ की और उक्त नेता की भूमिका भी जांची। इलाके के लोगों ने भी इस मामले में नेता की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। हालांकि पुलिस के पास ऐसी कोई शिकायत नहीं दर्ज करवाई गई है। थाना प्रभारी राजेश कुमार ने बताया कि पुलिस अपने स्तर पर जांच कर रही है।

यह था मामला

सोमवार रात को आशिमा ने अपने घर में फंदा लगाकर जान दे दी थी। अगले दिन उसके पति विकास ने भी ट्रेन के आगे कूद कर आत्महत्या कर ली थी। विकास के घरवालों का आरोप था कि इलाके में रहने वाले एक कांग्रेस नेता के तंग करने पर ही आशिमा ने आत्महत्या की थी और उसी की धमकियों से परेशान होकर विकास ने भी जान दे दी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!