जागरण संवाददाता जालंधर : स्मार्ट सिटी के तहत ब‌र्ल्टन पार्क में बनाए जाने वाले स्पो‌र्ट्स हब की कीमत में 10 करोड़ रुपये का इजाफा नहीं किया जाएगा। स्पो‌र्ट्स हब के निर्माण का ठेका लेने वाली कंपनी ने मूल प्रोजेक्ट में बदलाव करके कई काम कंक्रीट के बजाय स्टील मैटीरियल से करने का प्रस्ताव रखा था। इससे प्रोजेक्ट की लागत करीब 10 करोड़ रुपए बढ़ रही है। कंपनी ने यह प्रस्ताव सरकार को भेज दिया था। इस प्रस्ताव पर नगर निगम कमिश्नर दीपशिखा शर्मा ने सहमति नहीं दी और सरकार को लिखा है कि वह कंक्रीट मैटीरियल के बजाय पहले तैयार किए गए प्रोजेक्ट को ही आगे बढ़ाना चाहती हैं। दीपशिखा शर्मा ने कहा है कि 77 करोड़ से प्रोजेक्ट के जो प्रपोजल दिए गए थे उसी पर काम होगा। उन्होंने कहा कि स्टील स्ट्रक्चर की जरूरत नहीं है और जो प्रोजेक्ट पहले तैयार किया गया था तो वह भी इंजीनियर्स ने किसी बेहतर सोच के साथ ही तैयार किया था। उन्होंने कहा कि इसमें किसी तरह के बदलाव की जरूरत नहीं है। स्पो‌र्ट्स हब प्रोजेक्ट इंजीनियरिग, प्रोक्योरमेंट और कंस्ट्रक्शन (ईपीसी) मोड पर बनवाया जा रहा है। ठेका कंपनी अपना मुनाफा देखते हुए मूल प्रोजेक्ट में बदलाव करके कीमत बढ़ाना चाहती है। स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ पद पर अभी किसी अधिकारी की नियुक्ति नहीं हुई है। ऐसी चर्चा है कि निगम कमिश्नर दीपशिखा शर्मा को इसकी अतिरिक्त जिम्मेवारी मिल सकती है।

--------- 11 चौक के सुंदरीकरण प्रोजेक्ट को भी करेंगे रिव्यू

निगम कमिश्नर दीपशिखा शर्मा ने कहा है कि वह 21 करोड़ से 11 चौक के सुंदरीकरण प्रोजेक्ट को भी रिव्यू करेंगी। इस प्रोजेक्ट को लेकर कांग्रेस के पार्षद भी लगातार एतराज जताते रहे हैं। कमिश्नर ने कहा कि उनकी जानकारी में कुछ बातें आई हैं और वह खुद इस का मुआयना करेंगी। एक चौक पर दो करोड़ रुपये के काम से निगम कमिश्नर भी संतुष्ट नजर नहीं आई हैं। शहर के 11 चौक के सुंदरीकरण प्रोजेक्ट का काम खत्म हो गया है लेकिन इतने रुपए खर्च करके भी काम हुआ नजर नहीं आ रहा है। स्मार्ट सिटी कंपनी का 11 चौक सुंदरीकरण का प्रोजेक्ट सबसे अधिक विवादों में रहा है। कांग्रेस के पार्षदों ने कई बार चौक के प्रोजेक्ट में इस्तेमाल हो रहे मैटीरियल की जांच की और इसे बेहद खराब बताया था।

Edited By: Jagran