जागरण संवाददाता, कपूरथला : केंद्रीय जेल में हवालाती तरसेम की पीठ पर गैंगस्टर लिखे जाने का मामला अदालत के संज्ञान में आने के अगले दिन जेल प्रशासन की शिकायत पर थाना सिटी फिरोजपुर की पुलिस ने पीड़ित हवालाती तरसेम सिंह के खिलाफ ही केस दर्ज कर लिया है। केंद्रीय जेल फिरोजपुर के सुपरिंटेंडेंट ने शिकायत में लिखा है कि हवालाती तरसेम सिंह के खिलाफ पहले से ही 15 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसने खुद अपनी पीठ पर गैंगस्टर लिखकर जेल प्रशासन को बदनाम करने एवं उनकी ड्यूटी में विघ्न डाला है। इसी कारण हवालाती तरसेम के खिलाफ आइपीसी की धारा 304 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

उधर, हवालाती तरसेम के पिता ने पंजाब पुलिस के एक इंस्पेक्टर पर उसे नशे की तस्करी में धकेलने को मजबूर करने के आरोप भी लगाए हैं। हवालाती तरसेम सिंह के पिता का कहना है कि उसका बेटा जब जेल में गया था तो उस पर एक केस दर्ज था, लेकिन जेल में रहते हुए ही उस पर 10-12 केस और दर्ज कर दिए गए, जिसमें एक कत्ल का केस, कुछ लड़ाई झगडे़ और कुछ लूट के केस हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि तरसेम के ड्रग के मामले में संलिप्तता न होने पर उसके खिलाफ तीन और केस दर्ज करवा दिए गए थे।

उक्त मामले में बुधवार को आरोपित तरसेम सिंह को फिरोजपुर जेल से कपूरथला की सेशन कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया था। जज के सामने आते ही तरसेम ने अपनी कमीज उतार दी और पीठ पर पुलिस की ज्यादती के निशान दिखाते हुए अपने साथ हुए अत्याचार की पूरी व्यथा सुना डाली। पंजाब पुलिस के इस अमानवीय व्यवहार को देखते ही जज अवाक रह गए और कोर्ट रूम में मौजूद तमाम अमला भी सन्न हो गया। हवालाती की पीठ पर बड़े-बड़े शब्दों में गैंगस्टर लिखने की घिनौनी हरकत के आरोप किसी और पर नहीं बल्कि फिरोजपुर जेल प्रशासन पर लगे हैं, जिसने अब उल्टा तरसेम के खिलाफ वीरवार को धारा 304 के तहत एक और केस दर्ज करवा दिया।

हवालाती तरसेम के पिता ने बताया कि उनका बेटा जब जेल गया था तो उस पर सिर्फ एक मामला दर्ज था, लेकिन जेल में ही उस पर और मामले दर्ज कर उसे गैंगस्टर का नाम दे दिया गया। जबकि उनके बेटे का किसी भी गैंग के साथ कोई संबंध नहीं है। इस पर माननीय अतिरिक्त सत्र न्यायधीश राकेश कुमार ने तरसेम का मेडिकल करवाने का आदेश देने के साथ पुलिस को सारे मामले की जांच के आदेश भी दिए और इस केस की अगली सुनवाई 24 अगस्त निर्धारित की है।

Edited By: Pankaj Dwivedi