जेएनएन, चंडीगढ़/गुरदासपुर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुखजिंदर सिंह रंधावा ने पंजाब के नए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के साथ शपथ ली है। संभावना जताई जा रही है कि रंधावा उपमुख्यमंत्री होंगे। चन्नी के साथ पार्टी का हिंदू चेहरा ओपी सोनी ने भी शपथ ली है। उनके भी उपमुख्यमंत्री बनने की संभावना है।

सुखजिंदर सिंह रंधावा डेरा बाबा नानक से विधायक हैं। दो जनवरी 1959 को गुरदासपुर के गांव धारोवाली में जन्मे रंधावा के पिता संतोख सिंह कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। उनकी पत्नी का नाम जतिंदर कौर रंधावा है। उनके तीन बच्चे एक बेटा व दो बेटियां हैं। वह ग्रेजुएट हैं और उनका मुख्य कारोबार खेतीबाड़ी है।

सुखजिंदर सिंह रंधावा ने अब तक चार बार विधानसभा का चुनाव लड़ा। तीन बार रंधावा ने जीत दर्ज की। पहली बार उन्होंने 2002 में विधानसभा हलका फतेहगढ़ चूड़ियां से अकाली दल के निर्मल सिंह काहलों को पराजित किया, जबकि 2007 में वह निर्मल सिंह काहलों से ही मात खा गए। इसके बाद 2012 में वह नए बने विधानसभा हलका डेरा बाबा नानक से चुनाव लड़ें और अकाली के सुच्चा सिंह लंगाह को पराजित कर विधायक बने। 2017 में भी उन्होंने अकाली दल के सुच्चा सिंह लंगाह को दूसरी बार पराजित किया और विधायक बने। मौजूदा समय वह सहकारिता और जेल मंत्री के तौर पर काम कर रहे थे।

सीएम पद के लिए चन्नी के नाम की घोषणा से पहले इस पद के लिए रंधावा का ही नाम चल रहा था। उनके घर पर लड्डू भी पहुंच गए थे। समर्थक तो यह मानकर चल रहे थे रंधावा नए सीएम होंगे। उनके हलके में समर्थकों ने लड्डू भी बांट दिए थे। विधायक उनकी कोठी पर पहुंच रहे थे, लेकिन अचानक चन्नी को सीएम बनाने की घोषणा हो गई। रंधावा ने ही कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ बगावत की थी। देहरादून जाकर पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत से वह मिले थे।

 

Edited By: Kamlesh Bhatt