जागरण संवाददाता, जालंधर। पंजाब कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बनने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू पहली बार जालंधर आ रहे हैं। इस कार्यक्रम के दौरान वह आम वर्करों से नहीं मिलेंगे, जिससे वर्कर मायूस हो सकते हैं। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष ने विधायकों, मेयर, पार्टी के ब्लाक प्रधान, यूथ कांग्रेस, महिला कांग्रेस, जिला परिषद मेंबर और पुराने सीनियर नेताओं के साथ मीटिंग की योजना तय की है। बताया जा रहा है कि शहर और देहात के करीब 150 नेताओं से सिद्धू मुलाकात करेंगे। इनमें से कुछ नेताओं से सिद्धू वन टू वन मुलाकात करेंगे। वह शहर में कांग्रेस की स्थिति और आगामी चुनाव को लेकर फीडबैक लेंगे। वह नई टीम के गठन को लेकर भी आकलन कर रहे हैं। अभी जिला प्रधानों की नियुक्ति भी होनी है। नवजोत सिंह सिद्धू फिलहाल दिल्ली में बताए जा रहे हैं, लेकिन उम्मीद है कि वह देर रात वापस लौटने के बाद जालंधर में तय समय पर पहुंच जाएंगे।

सिद्धू से मिलने के लिए कांग्रेस नेता जोड़-तोड़ का प्रयास कर रहे हैं। सिद्धू ने जिन नेताओं से मुलाकात करनी है उनकी सूची पंजाब कांग्रेस भवन से बन कर आई है। ऐसे में सिर्फ तय लोगों की ही कांग्रेस भवन में एंट्री होगी नवजोत सिंह सिद्धू के कार्यक्रम को देखते हुए कांग्रेस भवन में तैयारियां शुरू हो चुकी हैं और कमिश्नरेट पुलिस ने सुरक्षा प्रबंधों के इंतजाम शुरू कर दिए हैं। पुलिस के सीनियर अधिकारियों ने बुधवार शाम को कांग्रेस भवन का मुआयना किया और मीटिंग के दौरान सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करने पर चर्चा की। नवजोत सिंह सिद्धू के प्रधान बनने के बाद आम वर्करों में उत्साह है और ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि वीरवार को भारी संख्या में कार्यकर्ता कांग्रेस भवन पहुंच सकते हैं। सिद्धू की होगी परीक्षा जालंधर में सिद्धू की वीरवार को परीक्षा है।

प्रधान बनने के बाद सिद्धू के जालंधर आगमन को लेकर कांग्रेसियों में विभिन्न प्रकार की अटकलें हैं कि क्या सिद्धू जालंधर के कांग्रेसियों की परीक्षा में पास होंगे या नहीं? पार्टी से नाराज तमाम कांग्रेसी सिद्धू से मिलने की कोशिश करेंगे। इन हालात में अगर सिद्धू उन्हें मिलकर संतुष्ट नहीं कर पाए तो बतौर प्रधान उनका पहला दौरा ही निगेटिव इंपैक्ट छोड़ जाएगा। सिद्धू के दौरे कमान को लेकर भी अटकलें तेज सिद्धू के इस दौरे में उनसे किन-किन कांग्रेसियों को मिलने दिया जाएगा। इसको लेकर किस कांग्रेसी नेता के हाथों में कमान होगी इसे लेकर अटकलें तेज हैं। उम्मीद की जा रही है कि कांग्रेस विधायक बाबा हैनरी या परगट सिंह के हाथों में इस बात की कमान होगी कि सिद्धू से किसे-किसे मिलने देना है। बीते दिनों बावा हैनरी ने सिद्धू के प्रधान बनने के बाद हाईवे पर उनका स्वागत भी किया था। सिद्धू परगट की मौजूदगी में हैनरी व मोहिंदर सिंह केपी के घर भी गए थे।