जागरण संवाददाता, जालंधर

आर्य समाज मंदिर शहीद भगत सिंह कालोनी में सत्संग व प्रवचन कार्यक्रम का आयोजन रविवार को हुआ। इसका आगाज हवन यज्ञ के साथ किया गया। इसमें डायमंड भंडारी व गीता भंडारी बतौर मुख्य यजमान शामिल हुए। पंडित जय प्रकाश शास्त्री ने मंत्रोच्चारण के साथ यज्ञ संपन्न करवाया। आर्य समाज की प्रसिद्ध भजन गायिका सोनू भारती ने यज्ञ प्रार्थना करवाई। आर्य समाज के प्रधान रणजीत आर्य ने कहा कि हमें अपने बच्चों को सत्संग व यज्ञ में जरूर लेकर जाना चाहिए। इसके ज्ञान से ही बच्चे सदाचारी व आज्ञाकारी बनेंगे।

मुख्य वक्ता आचार्य जय प्रकाश शास्त्री ने बताया कि महात्मा गांधी ने चरित्र निर्माण के लिए तीन आधारों पर बल दिया था। इसमें पहला बुरा मत देखो, दूसरा बुरा मत सुनो व तीसरा बुरा मत बोलो शामिल था। सदैव मृदु भाषा का प्रयोग करना चाहिए। वाणी की उपासना ही जीवन की परिपूर्णता है। इसके उपरांत आर्य समाज के प्रसिद्ध भजन सम्राट सुरिंदर सिंह गुलशन ने 'तुम आ जाना भगवान मैं द्वार खोलकर बैठा तुम आ जाना भगवान', 'स्वास स्वास प्रभु जी का सिमरन किए जा' पेश कर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। नन्ही बच्ची सावी आर्य ने गायत्री मंत्र का उच्चारण किया। आर्य समाज के उपमंत्री सुनित भाटिया ने मंच का संचालन किया। आरती पूजा के उपरांत भंडारे का आयोजन हुआ। इस मौके पर भूपेंद्र उपाध्याय, सुरेंद्र अरोड़ा, विजय चावला, चौधरी हरी चंद, अश्वनी डोगरा, अशोक धीर, ओम प्रकाश मेहता, पूनम मेहता, नवीन चावला, तृप्ता चावला, राजेंद्र शर्मा, सुभाष आर्य, इंदू आर्य, अनु भास्कर, वेद कुमार भाटिया, हंसराज मिश्रा, गौरव आर्य, ललित मोहन कालिया, संदीप अरोड़ा, रश्मि, कृष्णा, लक्ष्य, अनु आर्य, ज्योति सिंह, सुभाष मेहता, मंजू देवी, खुशबू, बैजनाथ, राजीव शर्मा, अमरनाथ, बबलू कुमार, रवि पौंडवाल आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran