जागरण संवाददाता, जालंधर। Sukhbir Badal Visit Jalandhar शिरोमणि अकाली दल के प्रधान व पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल दोपहर 12 बजे के बाद जालंधर पहुंचे। वहीं सबसे पहले सुखबीर ने भगत सिंह की प्रतिमा को नमन किया और फगवाड़ा गेट से रोड शो निलाका। वहीं सुखबीर बादल की रैली में चंदन ग्रेवाल भी साथ रहें। इस दौरान सुखबीर मार्केट में लोगों से मिले व उनकी समस्याएं जानीं।

जालंधर में फगवाड़ा गेट में रोड निकालते हुए सुखबीर बादल।

बता दें कि सुखबीर बादल जालंधर के कैंट सेंट्रल व वेस्ट हलके में विभिन्न स्थानों व नेताओं के यहां दौरे करके जालंधर की सियासत को गर्म करेंगे। इसी सप्ताह सुखबीर सिंह बादल की पत्नी व भटिंडा से सांसद हरसिमरत कौर ने भी पूरा दिन जालंधर में लगा कर अकाली दल की नए सिरे से चुनावी डिजाइनिंग की थी। चार दिन बाद सुखबीर सिंह बादल उससे एक कदम आगे निकलते हुए जालंधर में शहीदों को मत्था टेकने से लेकर धार्मिक स्थलों और नेताओं के यहां दौरे करके नए सियासी समीकरण पैदा करेंगे।

फगवाड़ा गेट में मार्केट एसोसिएशन के सदस्यों से मिलते हुए सुखबीर बादल।

कुछ भाजपाई आज अकाली दल में हो सकते हैं शामिल

कुछ भाजपाइयों के भी अकाली दल में शामिल होने की संभावना है। उम्मीद की जा रही है कि सुखबीर बादल के जालंधर दौरे के मौके पर भाजपा के कुछ कार्यकर्ता अकाली दल का दामन थाम सकते हैं। हालांकि पार्टी के स्तर पर भी इसे पूरी तरह से गोपनीय रखा जा रहा है।

सुखबीर का दौरा कांग्रेस व आप नेताओं में पैदा करेगा हलचल

जालंधर में एक तरफ हॉकी के मैदान में शनिवार को सुरजीत हॉकी प्रतियोगिता का पहला मैच खेला जाएगा तो दूसरी तरफ खेल नगरी में विधानसभा चुनाव की आहट शुरू होते ही अकाली दल ही नहीं सुखबीर बादल का दौरा कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं में भी हलचल पैदा करेगा।

सुखबीर बादल भाजपा के किले में भी करेंगे सेंधमारी

भाजपा के दो पार्षदों के अलावा वेस्ट हलके से भी एक पार्षद के अकाली दल में ज्वाइन करने की तैयारी करवाई जा रही है। इनमें दो पार्षद और कुछ नेता जालंधर सेंट्रल हलके से भी शामिल हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में भी एक पार्षद को सुखबीर ने भाजपा में ज्वाइन कराने की तैयारी की थी लेकिन पूर्व मंत्री मनोरंजन कालिया ने अपने प्रभाव के चलते उन्हें अकाली दल ज्वाइन नहीं करने दिया था। सुखबीर उक्त पार्षद का इंतजार करते रहे थे और कालिया के प्रभाव व संबंधों के चलते पार्षद ने अकाली दल ज्वाइन नहीं किया था।

Edited By: Vinay Kumar