जागरण संवाददाता, जालंधर : श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाशोत्सव को लेकर शहर के गुरु घरों में सोमवार को दो पहर के समागम करवाए गए। इसमें रागी जत्थों के सदस्यों ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की इलाही वाणी के साथ संगत को निहाल किया। वहीं, गुरु घरों में गुरु का अटूट लंगर वितरित किया गया।

गुरुद्वारा श्री गुरु ¨सह सभा, माडल टाउन

गुरुद्वारा श्री गुरू ¨सह सभा, माडल टाउन में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाशोत्सव को लेकर तड़के नगर कीर्तन तथा सुबह को समागम का आयोजन हुआ। गुरुद्वारा कमेटी तथा सिख नेशनल सेवक सभा के सहयोग से तड़के 2 बजे बैंड-बाजों के साथ नगर कीर्तन का आगाज हुआ। खास बात रह रही कि अंधेरा होने के बावजूद संगत की भीड़ देखते ही बनती थी। फूलों से सजी श्री गुरु ग्रंथ साहिब की पावन पालकी का दीदार करने के लिए जगह-जगह संगत इंतजार करती नजर आई। वहीं, गुरुद्वारा साहिब पहुंचने पर कमेटी की तरफ से भव्य स्वागत किया गया। इस मौके पर श्री दरबार साहिब, अमृतसर के हजूरी रागी भाई हरजीत ¨सह ने शबद गायन कर संगत को निहाल किया। ज्ञानी अजीत ¨सह रत्न ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब के महत्व से अवगत करवाया। गुरु अमरदास पब्लिक स्कूल की धार्मिक अध्यापिका बीबी जसजीत कौर ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की शिक्षाओं का बखान किया। प्रबंधक कमेटी के प्रधान अजीत ¨सह ने संस्थान की तरफ से करवाए जा रहे धार्मिक कार्यों के बारे में जानकारी दी। समागम में विशेष रूप से पहुंचे एसडीएम नकोदर तथा निगन के ज्वाइंट कमिश्नर राजीव वर्मा तथा रागी जत्थों को सिरोपा देकर सम्मानित किया गया। अरदास के उपरांत गुरु का अटूट लंगर वितरित किया गया। इस मौके पर मो¨हदरजीत ¨सह, कंवलजीत ¨सह कोछड़, सुरजीत ¨सह अरोड़ा, कुलतारन सिहं आनन्द. तेजदीप ¨सह सेठी, डा. एचएम हुरिया, गगनदीप ¨सह सेठी, एचएस भसीन व अन्य मौजूद थे।

गुरुद्वारा श्री गुरु ¨सह सभा, बाजार शेखां

गुरुद्वारा श्री गुरु ¨सह सभा बाजार शेखां में श्री गुरु ग्रंथ साहिब महाराज के प्रकाश उत्सव को लेकर गुरमति समागम का आयोजन सोमवार को हुआ। इसमें बाबा र¨वदर ¨सह, संत बलजीत ¨सह अमृतसर वाले तथा भाई परमजीत ¨सह जी सेवक ने शबद गायन कर संगत को निहाल किया। इस मौके पर प्रबंधक कमेटी के प्रधान दलजीत ¨सह क्रिस्टल ने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की तरफ से धर्म प्रचार के लिए किए जा रहे कार्यों के बारे में बताया। वहीं, प्रबंधक कमेटी की तरफ से रागी जत्थों को सम्मानित किया गया। इसके उपरांत स्त्री सत्संग सभा की सदस्यों ने भी कीर्तन किया। अरदास के उपरांत गुरु का अटूट लंगर वितरित किया गया। इस अवसर पर व¨रदर ¨सह ¨बद्रा, म¨हदर ¨सह, हरजीत ¨सह, मनप्रीत ¨सह, एडवोकेट रमनजीत ¨सह, जस¨वदर ¨सह सोढी, नवजोत ¨सह लाडी, इन्द्र ¨सह, द¨वदर ¨सह स्याल, कुलवंत ¨सह, मनवीर ¨सह, दशमेश ¨सह क्रिस्टल, गुरचरण ¨सह भाटिया व गुरजीत ¨सह आदि मौजूद थे।

गुरुद्वारा बाबा जीवन ¨सह गढ़ा

इसी तरह गुरुद्वारा बाबा जीवन ¨सह गढ़ा में भी श्री गुरु ग्रंथ साहिब का प्रकाश उत्सव मनाया गया। इस संबंध में आयोजित कीर्तन दरबार में भाई गुरमेल ¨सह, भाई रणजीत ¨सह तथा भाई बलजीत ¨सह ने शबद गायन के साथ संगत को निहाल किया। इस दौरान प्रबंधक कमेटी के प्रधान भूपिंदरपाल ¨सह खालसा ने कहा कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब में इंसान के जीवन का सार छुपा है। उन्होंने कहा कि जिस इंसान में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के संदेश को जीवन में अपना लिया हो, वह कभी भी असफल नहीं हो सकता। वहीं, उन्होंने युवाओं तथा बच्चों को सिख धर्म का ज्ञान देने को प्रेरित किया। प्रबंधक कमेटी की तरफ से रागी जत्थों का सम्मानित किया गया। वहीं, अरदास के उपरांत गुरु का अटूट लंगर वितरित किया गया। इस मौके पर भाई जसबीर ¨सह, सतपाल ¨सह, बल¨वदर ¨सह, बीबी जो¨गदर कौर, डा. जगजीत कौर बजाज, कुलदीप ¨सह, गुरमीत ¨सह व अन्य मौजूद थे।

गुरुद्वारा 6वीं पातशाही बस्ती शेख

इसी तरह गुरुद्वारा 6वीं पातशाही, बस्ती शेख में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रकाशोत्सव पर समागम का आयोजन हुआ। जिसमें रागी जत्थे के सदस्यों ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की इलाही बाणी के साथ संगत को निहाल किया। इस मौके पर प्रबंधक कमेटी के प्रधान बेअंत ¨सह सरहदी ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब के महत्व के बारे में बताया। इस मौके पर सहयोग देने वालों को सम्मानित किया गया।

Posted By: Jagran