जालंधर, जेएनएन। श्री गुरु नानक देव महाराज के 550वें प्रकाशोत्सव को लेकर गुरमति समागम का आयोजन दोआबा के ऐतिहासिक गुरुद्वारा दीवान स्थान सेंट्रल टाउन में हुआ। इसमें भाई मनप्रीत सिंह कानपुरी और भाई जसपाल सिंह जी खालसा ने शबद गायन के साथ संगत को निहाल किया। गुरमति समागम का आगाज श्री गुरु ग्रंथ साहिब की इलाही बाणी के साथ किया गया।

जालंधर के गुरुद्वारा दीवान स्थान सेंट्रल टाउन में गुरमति समागम के मौके पर मौजूद संगत।

 

इसके बाद बीबी बलजिंदर कौर खड़ूर साहिब वालों ने कीर्तन कर संगत को गुरु चरणों से जोड़ा। इस दौरान भाई मनप्रीत सिंह कानपुरी ने कहा कि श्री गुरु नानक देव महाराज जी ने समूचे समाज को मानवता की सेवा करने की प्रेरणा दी थी। इस पर संगत को अमल करना चाहिए। प्रबंधक कमेटी के प्रधान मोहन सिंह ढींडसा ने कहा कि गुरु साहिबान के संदेश व उपदेश को नई पीढ़ी तक पहुंचाना भी संगत की ही जिम्मेदारी है। इस मौके पर प्रबंधक कमेटी की तरफ से सभी रागी जत्थों को सिरोपा देकर सम्मानित किया गया। अरदास के उपरांत गुरु का अटूट लंगर वितरित किया गया।

इस अवसर पर जसवीर सिंह, सरबजीत सिंह सोनू, गुरिंदर सिंह मझैल, निर्मल सिंह बेदी, कुलवंत सिंह, जसपाल सिंह, हीरा सिंह, जसकीरत सिंह जस्सी हरपाल सिंह, कार्तिक शर्मा, अंशु शर्मा, वंश शर्मा, सिमरन सिंह, हरविंदर सिंह, हर्षविंदर सिंह, गुरु प्रताप सिंह बेदी, ज्ञान सिंह, गुरप्रीत सिंह, करण व गुरमीत सिंह बिट्टू के अलावा भाई कन्हैया जी सेवक दल, दशमेश सेवक दल व खालसा नौजवान सेवक सभा के सदस्य भी शामिल हुए।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Pankaj Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!