शाम सहगल, जालंधर

कोरोना के प्रकोप के दो साल बाद रक्षाबंधन पर इस बार बाजार में रौनक लौट आई है। राखी की दुकानों से लेकर हलवाई की दुकानें ग्राहकों की भीड़ से गुलजार हो गई हैं। बताया जा रहा है कि रक्षाबंधन को लेकर इस बार अच्छी बिक्री होने की उम्मीद में जिले में करीब दो हजार क्विंटल मिठाई तैयार की गई है, जिसकी खरीदारी करने के लिए रक्षाबंधन से एक दिन पहले यानि बुधवार को देर रात तक लोग बाजारों में आते रहे। सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक के बाद ट्रेंड बदला है और मिठाई की पैकिंग आकर्षक डब्बों में हो रही है।

लवली स्वीट्स के नरेश मित्तल बताते हैं कि इस बार बर्फी की मांग सबसे अधिक है। उन्होंने कहा कि फ्लेवर्ड बरफी को चाकलेट, कोकोनाट, मलाई, ड्राईफ्रूट, क्रीम बरफी सहित कई तरह की वैरायटी तैयार करवाई है। इसके अलावा पतीसा की मांग भी बरकरार है। इस बार देसी घी का ड्राईफ्रूट पसीता सबसे अधिक बिक रहा है, जिसकी कीमत 350 रुपये प्रति किलो से लेकर शुरू है। इस बीच रक्षाबंधन को लेकर खोए की गुजिया तथा बालूशाही भी तैयार की गई है। इस बारे में न्यू छाबड़ा स्वीट्स की संचालिका गगन सचदेवा बताती हैं कि पारंपरिक त्योहार पर पारंपरिक व्यंजन हमेशा से लोगों की पसंद में शामिल रहे हैं। इसके चलते अन्य मिठाइयों के साथ-साथ गुजिया व बालूशाही तैयार की गई है, जिसकी कीमत 250 रुपये किलो से शुरू है। लकड़ी के डिब्बे में मिठाई की पैकिंग

राखी बांधने के दौरान भाई का मुंह मीठा करवाने के बाद खाली हुआ डिब्बा इसे यादगार बनाए रखेगा। सिगल यूज प्लास्टिक समेत 19 उत्पादों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध के बाद इस बार लकड़ी के डिब्बे इस तरह से डिजाइन किए गए हैं, जिसे मिठाई खाने के बाद ड्राइंग रूम की शोभा बनाया जा सकता है। नकोदर रोड स्थित लवली स्वीट्स के रमेश मित्तल तथा नरेश मित्तल बताते हैं कि इस बार रक्षाबंधन पर लकड़ी के डेकोरेटेड डिब्बे तैयार करवाए गए हैं। इसमें विभिन्न प्रकार की मिठाई को हाइजेनिक तरीके से पैक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सिगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध के बाद अब बायोग्रेडेबल उत्पादों से डिब्बे तैयार करने के साथ-साथ लकड़ी के डेकोरेटेड डिब्बे भी तैयार करवाए हैं, जिनकी इन दिनों खासी मांग भी है। मिठाइयों के यह डिब्बे गिफ्ट भी किए जाते हैं। इनकी कीमत 400 रुपये से शुरू होकर मिठाइयों की कीमत के मुताबिक निर्धारित की गई हैं। रक्षाबंधन पर सुबह 11 बजे खुलेंगे सेवा केंद्र

रक्षाबंधन के मौके पर जिले के सेवा केंद्र 11 अगस्त को सुबह 11 से शाम 6 बजे तक खुलेंगे। इस बारे में जानकारी देते हुए उपायुक्त जसप्रीत सिंह बताते हैं कि लोगों को बेहतर सेवाएं देने के लिए उक्त फैसला लिया गया है।

Edited By: Jagran