हरनेक सिंह जैनपुरी, कपूरथला। पंजाब के नवनियुक्त मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की अगुआई वाली पंजाब सरकार में कपूरथला के विधायक राणा गुरजीत सिंह को कैबनिट मंत्री के तौर पर शामिल किया जा रहा है। कैप्टन सरकार में कुछ माह तक मंत्री रहे राणा गुरजीत सिंह अब दूसरी बार कैबिनेट मंत्री बनेंगे। वरिष्ठता के आधार पर राणा गुरजीत सिंह चन्नी कैबनिट में दोआबा क्षेत्र की नुमाइदगी करेंगे।

राणा गुरजीत सिंह को पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह गुट के बेहद करीबियों में शुमार किया जाता था लेकिन विवादों के चलते मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद राणा की कैप्टन से वह निकटता नही रही, जैसी पहले थी। इसके बाद लंबे समय तक राणा सीएम कैप्टन से दूर ही रहे। उन्होंने अपनी सियासी गतिविधियां भी काफी सीमत कर दी थी। पिछले दिनों नवजोत सिंह सिद्धू के पंजाब कांग्रेस के प्रधान बनने के बाद कांग्रेस में शुरू हुई वर्चस्व की लड़ाई में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राणा से कई बार संपर्क साधा था। उधर, राणा गुरजीत सिंह प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू और चरणजीत सिंह चन्नी के भी संपर्क में रहे। राणा ने कभी अपने पत्ते नही खोले और वह कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस आला कमान का ही दम भरते रहे।

वीरवार को सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के पीटीयू आगमन पर वह कुछ समय के लिए राणा गुरजीत सिंह के कपूरथला स्थित एकता भवन आवास पर भी पहुंचे। इस दौरान सीएम व राणा के बीच पंजाब की सियासत व कांग्रेस की अंदरुनी राजनीतिक को लेकर काफी लंबी विचार चर्चा हुई। हालांकि इस दौरान जिले का दूसरा कोई भी विधायक राणा की कोठी नहीं पहुंचा था। इसके बाद से कयास लगने शुरू हो गए थे कि राणा गुरजीत सिंह की पंजाब कैबिनेट में वापसी हो सकती है। शनिवार को चन्नी मंत्रिमंडल पर अंतिम मुहर लगने पर राणा गुरजीत सिंह के कैबनिट मंत्री के तौर पर शामिल होने से कपूरथला में खुशी की लहर है।

यह भी पढ़ें - Punjab New Cabinet: मंत्री बनने की दौड़ में आगे निकले गिलजियां, सुंदर शाम अरोड़ा का कटा पत्ता

यह भी पढ़ें - Punjab New Cabinet: सबसे पहले कैप्टन के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले परगट बनेंगे मंत्री, सिद्धू से दोस्ती का मिला फल

Edited By: Pankaj Dwivedi