जासं, जालंधर। सैनिक इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में एमएससी (आईटी), बीएससी (आईटी) और पीजीडीसीए कोर्स के लिए दाखिले शुरू हो गए हैं। इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर कम जिला रक्षा सेवाएं भलाई अधिकारी रिटायर्ड कर्नल दलविंदर सिंह ने बताया कि यह इंस्टीट्यूट पूर्व, मौजूदा फौजियों, एससी-एसटी और आर्थिक पक्ष से कमजोर परिवारों के मेधावी बच्चों के लिए वरदान साबित हो रहा है। यहां बच्चों को पेशेवर तौर पर कंप्यूटर डिग्री कोर्स का प्रशिक्षण देकर रोजगार के योग्य बनाया जा रहा है। 

उन्होंने बताया कि शास्त्री मार्केट में स्थित यह संस्था आईकेजी पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी से मान्यता प्राप्त है। इसमें पूर्व सैनिकों के आश्रितों, समाज के कमजोर वर्गों के बच्चों से कोई फीस नहीं ली जाती। केवल प्रशासनिक खर्च के एवज में नाममात्र खर्च विद्यार्थी से लिया जाता है। 

बीएससी आईटी कोर्स के लिए कम से कम योग्यता 12वीं पास

कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. परमिंदर कौर सैनी ने बताया कि यहां एमएससी आईटी, बीएससी आईटी और पीजीडीसीए कोर्स यूनिवर्सिटी के सिलेबस अनुसार करवाए जाते हैं। इन कोर्स के लिए दाखिले शुरू हो गए हैं। उन्होंने बताया कि बीएससी आईटी कोर्स के लिए कम से कम योग्यता 12वीं पास है। एमएससी आईटी कोर्स के लिए योग्यता पीजीडीसीए ग्रेजुएशन और पीजीडीसीए के लिए योग्यता ग्रेजुएशन रखी गई है।

इंस्टीट्यूट का व्यक्तित्व विकास पर फोकस

प्रिंसिपल सैनी ने बताया कि यहां विद्यार्थियों को पर्सनैलिटी डेवेलपमेंट के लिए अलग-अलग गतिविधियां करवाई जाती हैं। इसके लिए संस्था के पास बहुत ही योग्य स्टाफ मौजूद है। इंस्टीट्यूट में सीटें सीमित हैं, इसके लिए यहां दाखिला पहल के आधार पर ही होगा।

यह भी पढ़ें - कृषि कानूनों पर पंजाब से लेकर दिल्ली तक गरमाई सियासत, संसद भवन के समक्ष MP रवनीत बिट्टू व हरसिमरत आमने-सामने

यह भी पढ़ें - जालंधर में निगम की ड्राइवर एंड टेक्निकल यूनियन फिर हड़ताल पर, शहर में कूड़ा लिफ्टिंग ठप; कर रहे ये मांग 

यह भी पढ़ें - Tokyo Olympics: गुरजीत कौर ने खेल के दूसरे ही मिनट में दागा गोल, पंजाब में गूंजा 'चक दे इंडिया' का नारा

Edited By: Pankaj Dwivedi