जागरण संवाददाता, पठानकोट। कांग्रेस द्वारा जारी की गई प्रदेश के 86 विधानसभा हलकों के प्रत्याशियों की सूची में सुजानपुर विधानसभा से नरेश पुरी को और पठानकोट से अमित विज को टिकट तय किया गया है। पहली सूची में भोआ विधानसभा क्षेत्र को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है। अमित विज पठानकोट विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के मौजूदा विधायक हैं और उनको पार्टी की ओर से टिकट दिया जाना तय था। पर कांग्रेस आलाकमान की ओर से सुजानपुर विधानसभा हलका से नरेश पुरी को पार्टी का टिकट देकर सबको चाैंका दिया है।नरेश पुरी बीते दो विधानसभा चुनावों में बतौर निर्दलीय उम्मीदवार विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं।

बता दें कि सुजानपुर सीट से कांग्रेस अंतर्कलह के कारण लगातार तीन बार चुनाव हार चुकी है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस की ओर से पार्टी की अंतर्कलह को समाप्त करने के तहत ही दो बार निर्दलीय चुनाव लड़ चुके नरेश पुरी को टिकट दी गई है। उल्लेखनीय है कि नरेश पुरी के पिता एवं पूर्व मंत्री रघुनाथ सहाय पुरी (स्वर्गीय) ने कांग्रेस की ओर से सुजानपुर विधानसभा से पांच बार विधानसभा चुनाव लड़ा था। वे तीन चुनावों में विजयी रहे थे जबकि दो चुनाव हार गए थे। उनके निधन के बाद नरेश पुरी को कांग्रेस की टिकट नहीं मिली थी, तथा उनके द्वारा 2012 और 2017 में बतौर निर्दलीय उम्मीदवार विधानसभा चुनाव लड़ा गया था। दोनों बार नरेश पुरी चुनाव हार गए थे।

टिकट के लिए विज का विरोध करने वालों ने साधी चुप्पी

पठानकाेट विधानसभा क्षेत्र से मौजूदा विधायक अमित विज को टिकट देने का विरोध करने वाले कांग्रेस नेताओं जिनमें पूर्व मंत्री रमण भल्ला और जिला प्लानिंग बोर्ड के चेयरमैन अनिल दारा सहित अन्य ने चुप्पी साध ली है। अमित विज को पार्टी द्वारा प्रत्याशी बनाए जाने के संबंध में बात करने पर अनिल दारा का कहना था कि वो पार्टी के सिपाही हैं, पार्टी के साथ रहेंगे। हालांकि, अमित विज को समर्थन देने के संबंध में उनका कहना था कि अभी इंतजार करें, कुछ दिनों में स्थिति साफ हो जाएगी।

आशीष बोले, पार्टी का फैसला मंजूर

सुजानपुर विधानसभा से कांग्रेस की टिकट के लिए मजबूत दावेदारी पेश करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार के बेटे एडवोकेट आशीष कुमार का कहना है कि पार्टी ने जो फैसला किया है उसका वो सम्मान करते हैं।

मंटू ने दिए बगावती सुर अपनाने के संकेत

कांग्रेस की टिकट के मजबूत दावेदारों में गिने जाने वाले अमित सिंह मंटू ने साफ किया कि वो पार्टी के फैसले से कतई सहमत नहीं। मंटू ने कहा कि पार्टी को अगर ऐसा लगता है कि जो बगावत करता है और पार्टी को चुनाव हरवाता है, उसे टिकट देना चाहिए तो यकीनन अगले विधानसभा चुनावों में पार्टी की ओर से उनको ही टिकट दिया जाएगा।

Edited By: Vinay Kumar