जागरण संवाददाता, फरीदकोट। पंजाब सरकार प्रदेश भर में 320 कम्युनिटी हेल्थ अफसरों (सीएचओ) की तैनाती करने जा रही है। इन पदों को भरने की जिम्मेदारी सरकार ने बाबा फरीद यूनिर्वसिटी (फरीदकोट) को सौंपी है। इसके तहत यूनिर्वसिटी ने रविवार को प्रदेश भर में बनाए गए परीक्षा सेंटरों पर सीएचओ की परीक्षा आयोजित की। इसका परिणाम भी आज ही यूनिर्वसिटी की ओर से घोषित किया जाएगा।

बाबा फरीद यूनिर्वसिटी आफ हेल्थ साइंस के वाइस चांसलर डॉ. राज बहादुर ने बताया कि सीएचओ के 320 पदों के लिए कुल 5780 लोगों ने आनलाइन आवेदन किया था। इसमें से 5336 अभ्यर्थियों ने परीक्षा में भाग लिया जबकि 444 अभ्यर्थी परीक्षा से अनुपस्थित रहे। उन्होंने बताया कि सेंटर से उत्तरपुस्तिकाओं के पहुंच जाने के उपरांत उनकी जांच कर संभवत: परिणाम घोषित कर दिया जाएगा। 

फिरोजपुर स्थित डीसी माडल इंटरनेशनल स्कूल में बने परीक्षा केंद्र से एक परीक्षार्थी के प्रश्नपत्र साथ ले जाने पर हड़कंम मंच गया। इसके बाद उस परीक्षार्थी की पहचान कर अधिकारियों ने उसे तुंरत प्रश्नपत्र परीक्षा केंद्र पर लाकर जमा करने को कहा। इसकी शिकायत परीक्षा आयोजकों ने लिखित रूप में एसएसपी फिरोजपुर को कर दी है।

 
कम्युनिटी हेल्थ अफसर (सीएचओ) की सीधी भर्ती से कई हैरान

सीएचओ भर्ती प्राक्रिया से पहले एक टेस्ट उपरांत छह महीने का कम्युनिटी हेल्थ आफिसर (सीएचओ) का कोर्स सरकारी अस्पतालों व मेडिकल कालेज में सेहत विभाग करवाता था। इससे अस्पतालों की आय होती थी और छह महीने का कोर्स पूरा करने वाले लोग पूरी तरह से सेहत विभाग की गांवों में छोटी-छोटी डिस्पेंसरियों परे बेहतर तालमेल के साथ काम करते थे। अब सरकार के फैसले के तहत इन लोगों की सीधी भर्ती की जा रही है। इससे सेहत विभाग के कई अधिकारी हैरान हैं। उनका कहना है कि बिना कोर्स पूरा करवाए कैसे सरकार इन लोगों को इतनी बड़ी जिम्मेदारी देने जा रही है।

Edited By: Pankaj Dwivedi