जागरण संवाददाता, जालंधर। पावरकाम मैनेजमेंट व पंजाब स्टेट पावर कारपोरेशन लिमटेड ( पीएसपीसीएल) के ज्वाइंट फोरम के बीच संघर्ष तेज होता जा रहा है। बीते रविवार को चंडीगढ़ में मैनेजमेंट व फोरम के बीच हुई बैठक का कोई नतीजा न निकलने की वजह से सोमवार को सदस्यों ने सुबह दस बजे डिवीजन के बाहर धरना प्रदर्शन शुरु कर दिया। फोरम सदस्य सामूहिक छुट्टी लेकर 26 नवंबर तक मैनेजमेंट व सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

मैनेजमेंट व फोरम की आपसी लड़ाई में उपभोक्ता परेशान हो रहे है। जालंधर सर्किल की पांच डिवीजन के कैश काउंटर बंद पड़े है। उपभोक्ता बिल जमा नहीं करवा पा रहे है। कई लोगों की काम रुके पड़े है। कई लोगों नए मीटर अप्लाई करने के लिए संबंधित डिवीजन में आ रहे है। लेकिन स्टाफ न होने की वजह से उन्हें वापस लौटना पड़ता है। 

सदस्यों ने डिवीजन के बाहर धरना प्रदर्शन करने के बाद शक्ति सदन गेट के बाहर रोष रैली निकाली और मैनेजमेंट के खिलाफ गुस्सा फूटा। पावरकाम भी उपभोक्ता को बिल जमा करवाने संबंधित कोई राहत नहीं दे रहा है। बिल समय पर जमा करवाने के लिए कह रहा है। स्टाफ न होने की वजह से बिल जमा नहीं हो रहे है। उपभोक्ता को बिल पर पड़ने वाले दो प्रतिशत जुर्माने का डर सता रहा है। अब उपभोक्ता को आनलाइन बिल जमा करवाना होगा।

पूर् कैबीनेट मंत्री अवतार हैनरी को सौंपा मांग पत्र

पीएसपीसीएल के ज्वाइंट फोरम प्रेस सचिव व सर्किल प्रधान बलविंदर राणा, सीनियर मीत प्रधान रछपाल सिंह, राज कुमार व भूपिंदर सिंह का प्रतिनिधित्व मंडल ने मांगों संबंधी मांग पत्र पूर्व कैबिनेट मंत्री अवतार हैनरी को सौंपा। पूर्व मंत्री ने कहा कि मांगों को जल्द से जल्द करवाने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि मांगों को लेकर स्वयं सरकार व मैनेजमेंट से बात करेंगे। इस अवसर पर प्रधान हरलीन सिंह, राकेश कुमार शर्मा, अरविंदर सिंह, अश्वनी कुमार, चतर सिंह, पाल सिंह उपस्थित थे।

क्या है मांगे

-पे बैंड स्केल लागू किया जाए

-पे-स्केल का बनता एरियर जारी किया जाए

-डीए की किश्तों का बकाया एरियर

-नए स्केल के मुताबिक डीए की किश्त जारी

सब-स्टेशन पर एक्सईयन दे रहे है ड्यूटी

टेक्निकल स्टाफ सामूहिक छुट्टी लेकर हड़ताल पर है। सब स्टेशन पर एक्सईयन ड्यूटी दे रहे है। बिजली सप्लाई सुचारू रखने के लिए एक्सईयन सब स्टेशन पर ड्यूटी पर डटे हुए है। वहीं दूसरी तरफ कैफे वालों की चांदी बनी हुई है। गांव के उपभोक्ता को आनलाइन बिल जमा करवाने के लिए कम आता है। वह कैफे का सहारा ले रहे है। कैफे संचालक आनलाइन प्रति बिल का बीस से तीस रुपए चार्ज कर रहे है।

ये भी पढ़ेंः जालंधर में श्रमिकों को नशा सप्लाई करने वाले तस्कर ने पूछताछ में किए अहम खुलासे, मास्टरमाइंड की तलाश में जुटी पुलिस

Edited By: Vinay Kumar