जालंधर [मनुपाल शर्मा]। बीते चार वर्ष से डीलर मार्जिन न बढ़ाए जाने और प्रदेश में पेट्रोल-डीजल की बिक्री पर वैट की ऊंची दरों के विरोध में पांच बजे पेट्रोल पंप बंद कर देने की घोषणा करने वाली पेट्रोल पंप डीलर एसोसिएशन, पंजाब (पीपीडीएपी) ने चेतावनी दी है कि अनिश्चितकालीन हड़ताल का भी विकल्प मौजूद है। अगर तेल कंपनियां, तेल एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय अथवा पंजाब सरकार ने पेट्रोल पंप संचालकों की मांगों को नजरअंदाज किया तो फिर तेल की बिक्री को अनिश्चितकालीन के लिए बंद कर दिया जाएगा। एसोसिएशन के अध्यक्ष परमजीत सिंह दोआबा ने कहा है कि पंजाब के पेट्रोल पंप संचालक भारी आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं। कुछ पेट्रोल पंप संचालकों ने आत्महत्या कर ली है और कुछ पेट्रोल पंप संचालक तालाबंदी का शिकार हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि देशभर के पेट्रोल पंप संचालक तेल कंपनियों की मनमर्जी के चलते परेशान हैं और पीपीडीएपी उन्हें अपना पूर्ण समर्थन देने की घोषणा करती है। अगर देश की किसी भी राज्य एसोसिएशन की तरफ से कोई हड़ताल अथवा विरोध किया जाता है तो पीपीडीएपी संबंधित एसोसिएशन का साथ देगी। उन्होंने कहा कि पीपीडीएपी 7 नवंबर से पंजाब में पेट्रोल पंप सुबह सात बजे से लेकर शाम पांच बजे तक ही खुले रखने की घोषणा कर चुकी है। इसके अलावा मांगे न माने जाने की सूरत में 22 नवंबर को राज्य भर के पेट्रोल पंप बंद भी रखे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर तेल कंपनियां और सरकार इस विरोध प्रदर्शन को मात्र 22 नवंबर तक सीमित मान रही हैं तो यह उनकी गलत सोच है। पीपीडीएपी मांगे न माने जाने के विरोध में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर भी जा सकती है।

Edited By: Vinay Kumar