जागरण संवाददाता.जालंधर : जिला प्रबंधकीय कॉम्पलेक्स में सोमवार को पंजाब राज्य माइनोरिटी कमीशन के चेयरमैन मुनव्वर मसीह की तरफ से बुलाई गई बैठक सियासत की भेंट चढ़ गई। बैठक में क्रिश्यिचन समाज के दोनों गुट नहीं पहुंचे। बताया जा रहा है कि चेयरमैन का पद संवैधानिक होने के बावजूद क्रिश्चियन संगठन मानते हैं कि मुनव्वर के अकाली दल के साथ करीबी संबंध रहे हैं। उनका कार्यकाल भी समाप्त होने वाला है। तीसरा गुट किसी राजनीतिक पार्टी से संबंध नहीं रखता है, लेकिन उसके नुमाइंदे भी इस बैठक में नहीं पहुंचे। बैठक में जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए कमीशन के चेयरमैन मुनव्वर मसीह ने जिले में कब्रिस्तान की समस्या उठाई। एडीसी जसबीर ¨सह ने भरोसा दिया कि जिला प्रशासन मुस्लिम और ईसाई भाईचारे की सुविधा को देखते हुए कब्रिस्तान बनाने के लिए जगह उपलब्ध करवाने में प्राथमिकता देगा। कहा कि अल्पसंख्यकों को अपनी अंतिम रस्मों को पूरा करने के लिए कहीं भी स्थान की जरूरत होगी, जिला प्रशासन उन्हें उचित स्थान उपलब्ध कराने का पूरा प्रयास करेगा। पंजाब क्रिश्चियन मूवमेंट के प्रदेश अध्यक्ष हमीद मसीह ने बताया कि वे बैठक में नहीं गए। पंजाब क्रिष्चियन यूनाइटेड फ्रंट के अध्यक्ष जोर्ज मसीह ने बताया कि उन्होंने कमीशन चेयरमैन की बैठक में हिस्सा नहीं लिया। बैठक में कमीशन के मेंबर ऐल्बर्ट दुआ, एसडीएम परमवीर ¨सह, जिला कल्याण अधिकारी लखविन्दर ¨सह, जिला पंचायत अधिकारी अजय कुमार, एसीपी एचएस भल्ला, तहसील वैलफेयर अधिकारी सरबजीत कौर भी उपस्थित थे।