जालंधर, जेएनएन। अमन नगर के शराब तस्कर सोनू के खिलाफ एक्साइज एक्ट और ठगी का केस दर्ज होने के दूसरे दिन बाद भी शहरी पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं कर पाई है। सूत्रों की मानें तो केस दर्ज होने के बावजूद सोनू पुलिस की नाक के नीचे पहले की तरह अपने दूसरों ठिकानों से शराब तस्करी का अवैध धंधा चला रहा है। वहीं पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की बात कह रही है और वह घर से फरार है। जबकि हकीकत यह है कि वह पहले की तरह अपने घर पर ही मौजूद है।

ज्ञात हो कि एक्साइज विभाग और थाना आठ की पुलिस ने सोमवार सुबह सुच्ची पिंड में रेड कर एक गोदाम नुमा कमरे से 215 पेटी अवैध शराब बरामद कर मौके से अमन नगर निवासी राकेश कालिया (35) और पवन भारद्वाज को गिरफ्तार किया था। पुलिस जांच में सामने आया था कि राकेश और पवन दस-दस हजार रुपये प्रति माह वेतन पर अमन नगर निवासी शराब तस्कर अरविंदर सिंह उर्फ सोनू के लिए काम करते हैं और बरामद की अवैध शराब भी उसी की है। इस संबंध में थाना रामामंडी के एसएचओ सुलखन सिंह ने कहा कि आरोपित शराब तस्कर की गिरफ्तारी के लिए उनकी टीम पूरी कोशिश कर रही है और जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने यह भी साफ किया कि उनके ऊपर किसी तरह का कोई राजनीतिक दबाव नहीं है।

शहरी पुलिस के आलाअधिकारी का है मुखबिर

सोनू शराब तस्कर को सिर्फ राज नेताओं का ही साथ हासिल नहीं है, बल्कि वह कमिश्नरेट पुलिस के एक आला अधिकारी के भी बहुत करीब है। वह शराब तस्करी के काले धंधे के साथ-साथ उक्त अधिकारी को दूसरे अपराधियों के बारे मुखबरी भी करता है। इसी कारण उसके खिलाफ मीडिया में खबरें प्रकाशित करने वाले पत्रकारों को वह सीधे तौर पर कहता है कि उक्त पुलिस अधिकारी से बात कर लो, जो उसे साफ सुथरा मानते हैं।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!