जालंधर, जेएनएन। सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं एक जुलाई से शुरू हो रही हैं। परीक्षा संबंधी सीबीएसई ने गाइडलाइंस जारी कर दी हैं जिसे परीक्षा केंद्र संचालकों और अभिभावकों के लिए मानना अनिवार्य होगा। अगर बच्चे में खासी-जुकाम जैसे लक्षण दिखते हैं तो तुरंत बच्चे का चेकअप कराए। अभिभावकों को अंडरटेकिंग देनी होगी कि उनका बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है। उसे कोविड-19 संक्रमण जैसा खतरा नहीं है। तभी उनके बच्चे को परीक्षा केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा।

स्टूडेंट जहां पढ़ता है वहीं सेंटर 

कोविड-19 के चलते विद्यार्थी जिस भी स्कूल में पढ़ते हैं उनका परीक्षा सेंटर वहीं बनेगा। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि विद्यार्थियों को परीक्षा देने के लिए दूर-दराज के परीक्षा केंद्रों में ना जाना पड़े। 

इसके अलावा विद्यार्थियों को पूरी बाजू के कपड़े और मास्क पहनकर परीक्षा केंद्र में दाखिल होना होगा। विद्यार्थियों के पास अपना सैनिटाइजर भी होना जरूरी है और उन्हें दूसरे छात्रों से शारीरिक दूरी भी बनाए रखनी होगी। बोर्ड मान रहा है कि विद्यार्थी आम तौर पर अपने घर के नजदीक के ही स्कूल में ही पढ़ते हैं। ऐसे में स्कूल संचालकों व प्रबंधकों को इन सारे प्रबंधों को करने में कोई परेशानी नहीं होगी। वे अपने विद्यार्थियों से भी इसका पालन पूरी तरह से करवा पाएंगे।

एडमिट कार्ड खो गया या खराब है तो करें स्कूल में संपर्क

कोविड-19 की वजह से करीब दो महीने पहले परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया था। इस बीच अगर किसी विद्यार्थी का एडमिट कार्ड खो गया है या फिर खराब हो गया है तो वे तुरंत किसी ना किसी माध्यम से अपने स्कूल से संपर्क करें ताकि परीक्षाओं में बैठने के लिए कोई परेशानी ना आए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!