जासं, जालंधर। मेधावी विद्यार्थियों को शिक्षा का अधिकार मिले और उनके मार्ग में आर्थिक तंगी की रुकावट न आए, इसीलिए उनको प्रोत्साहित करने के लिए राष्ट्रीय मीन्स-कम-मेरिट स्कालरशिप की परीक्षा ली जाती है। इसे उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों को स्कालरशिप का लाभ अपनी आगे की पढ़ाई जारी रखने के लिए मिलता है।

इसके लिए आ‌वेदन करने संबंधी राज्य शैक्षणिक खोज व सिखलाई परिषद पंजाब की तरफ से अंतिम तिथि शुक्रवार यानी कि 30 सितंबर है। अगर आवेदन से चूके तो स्कालरशिप हासिल करने के अवसर से भी चूक जाएंगे। इसलिए जिन विद्यार्थियों की तरफ से अभी आवेदन नहीं किया गया है, वे जल्द से जल्द इसमें आवेदन करें या करवाएं।

यह भी पढ़ें - Punjab Assembly Special session: सरारी मामले पर पंजाब विधानसभा में हंगामा, विजिलेंस कमीशन रीपील बिल 2022 पास

आठवीं पास ले सकते हैं हिस्सा

बता दें कि इस परीक्षा के लिए आठवीं के विद्यार्थी हिस्सा ले सकते हैं, जिन्हें ही आगे की 9वीं से 12वीं तक पढ़ाई करते समय सालाना 12 हजार रुपये की स्कालरशिप मिलेगी। प्रतयेक वर्ष शिक्षा विभाग की तरफ से राष्ट्रीय मीन्स-कम-मेरिट छात्रवृत्ति के लिए चयन संबंधी परीक्षा करवाई जाती हैं। इसमें सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों के साथ-साथ एडिड, लोकल बाडी से स्कूलों के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं।

परीक्षा में 60 प्रतिशत अंक लाने अनिवार्य

परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों को स्कूल में 75 प्रतिशत हाजरी के साथ-साथ परीक्षा में 60 प्रतिशत अंक लाने अनिवार्य होते हैं।मैरिट पाने वाले 500 विद्यार्थियों की लिस्टें जिलों के हिसाब से बनाई जाती हैं। इसे लेकर स्कूलों को भी विभाग की तरफ से हिदायत दे दी गई है कि कोई भी योग्य विद्यार्थी परीक्षा के लिए आ‌ेदन करने से चूके नहीं। इस बात को सभी के लिए सुनिश्चित किया जाना अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें - पंजाब में पाकिस्तानी नोट ने मचाई खलबली, 5 लाख की रंगदारी मांगी, पुजारी को मारने और मंदिर उड़ाने की धमकी

Edited By: Pankaj Dwivedi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट