जालंधर, जेएनएन। नगर निगम की वाटर सप्लाई एंड सीवरेज डिस्पोजल कमेटी के चेयरमैन पवन कुमार ने पहली ही मीटिंग में यह साफ कर दिया है कि उनका लक्ष्य पानी बचाना और रेवेन्यू बढ़ाना है। उन्होंने ऑपरेशन एंड मेंटेनेंस डिपार्टमेंट के अधिकारियों से विभाग की पूरी वर्किंग पर रिपोर्ट मांगी है।

मीटिंग में पवन कुमार ने कहा कि ग्राउंड वाटर लगातार नीचे जा रहा है, इसलिए सभी का फर्ज है कि पानी की खपत कम की जाए और जितना पानी इस्तेमाल करते हैं, उसका बिल दें। वह हर महीने विभाग की इन्कम को रिव्यू करेंगे। आय बढ़ाने के लिए जो भी सुधार करने की जरूरत है, वह किए जाएंगे। पवन कुमार ने ओएंडएम सेल के अफसरों से कहा है कि लोगों की शिकायतों का निपटारा भी जल्द किया जाए।

पवन कुमार ने कहा कि अब सुप्रीम कोर्ट के आॅर्डर आ गए हैं कि सीवरेज में कोई भी सीवरमैन नहीं जाएगा, इसलिए इसका विकल्प भी ढूंढा जाए। अफसरों ने बताया कि निगम हर हलके के लिए एक-एक छोटी सुपर सक्शन मशीन खरीद रहा है। पवन कुमार ने कहा कि अगली मीटिंग 10 दिन बाद की जाएगी और तब तक सभी सीवरमैन की लिस्ट बन जाए। यह सीवरमैन कहां तैनात है, इसका विवरण भी दिया जाए।

बरसात के दौरान जलभराव की स्थिति वाले इलाकों की भी लिस्ट बनाई जाए। उन्होंने अमरुत योजना के तहत चल रहे पानी और सीवरेज के प्रोजेक्टस की जानकारी भी ली। जिन इलाकों में गंदे पानी की सप्लाई हो रही है उन इलाकों की जानकारी भी मांगी है। पवन कुमार ने कहा कि लोगों को साफ पानी उपलब्ध करवाना निगम का फर्ज है और इसे पूरा करेंगे।

15 दिन में सभी अवैध बोर्ड उतारने के निर्देश, केस भी दर्ज करवाएंगे

नगर निगम की एडवरटाइजमेंट एडहॉक कमेटी की चेयरपर्सन नीरजा जैन ने नगर निगम के विज्ञापन विभाग को निर्देश दिया है कि शहर में 15 दिनों में सभी अवैध होर्डिंग उतार दिए जाएं। नीरजा जैन ने कहा कि बिना मंजूरी होर्डिंग और पोस्टर लगाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो और उन पर केस दर्ज करवाए जाएं। एडवरटाइजमेंट कमेटी में उनके साथ मेंबर रीता शर्मा, श्वेता धीर, सरबजीत कौर ने शहर में विज्ञापन से आय की संभावनाओं पर चर्चा की। उन्होंने अफसरों से एडवरटाइजमेंट पॉलिसी भी मांगी है। श्वेता धीर ने कहा कि जब तक पॉलिसी के अनुसार टेंडर नहीं आते, तब तक नगर निगम को अस्थायी तौर पर होर्डिंग्स लगाने के लिए साइट्स तैयार करने की जरूरत है। इससे निगम की आय बढ़ेगी। नीरजा जैन ने कहा कि शहर में सिर्फ एक जोन का ही ठेका है, लेकिन पूरे शहर में विज्ञापनबाजी हो रही है। इससे निगम को भी नुकसान हो रहा है। कमेटी मेंबर राजीव ओमकार टिक्का पहले हर मेंबरशिप स्वीकार करने से इंकार कर चुके है, जबकि मनमोहन राजू मीटिंग में नहीं पहुंचे।

अरुणा अरोड़ा ने वेंडिंग जोन पर रिपोर्ट मांगी

तहबाजारी एडहॉक कमेटी की चेयरपर्सन अरुणा अरोड़ा ने तहबाजारी विभाग से वें¨डग जोन पर रिपोर्ट मांगी है। पहली मी¨टग में अरुणा अरोड़ा ने पूछा है कि शहर में किस-किस प्वाइंट पर सड़कों पर रेहड़ियों से ट्रैफिक प्रभावित हो रहा है। सड़कों पर लगने वाली रेहड़ियों को वेंडिंग जोन में शिफ्ट करने का प्लान भी पूछा है। उन्होंने अफसरों से जानकारी ली है कि सर्वे में कितने रेहड़ियों और फड़ियों वाले रजिस्टर्ड हुए थे। वें¨डग जोन में कितने लोग अडजस्ट होंगे और जो रह जाएंगे उनके लिए क्या इंतजाम होगा। उन्होंने कहा कि तहबाजारी विभाग के काम के दम पर सरकार को और बेहतर बनाया जा सकता है।

पार्षद के पतियों की मौजूदगी से अफसर नाराज

एडहॉक कमेटियों की मी¨टग में पार्षद पतियों की मौजूदगी से अफसरों में नाराजगी है। विभाग प्रमुखों ने यह मामला कमिश्नर के पास भी उठाया है। पहले दिन हुई हेल्थ एंड सेनिटेशन कमेटी की मीटिंग में पार्षद सतिंदरजीत कौर की जगह उनके पति प्रीत खालसा मौजूद रहे थे। पार्षद पति इन बैठकों में अफसरों को निर्देश दे रहे हैं। अफसरों ने अल्टीमेटम दिया है कि अगर पार्षद पति मी¨टगों में रहेंगे तो वह मीटिंग में नहीं आएंगे। वीरवार को हुई मीटिंग में पार्षद कमला ढल्ल के साथ उनके पति हंसराज ढल्ल और पार्षद रजनी बाहरी के साथ उनके पति सलिल बाहरी भी मौजूद रहे थे। कमिश्नर दीपर्वा लाकड़ा ने भी कहा है कि पार्षद मतलब पार्षद। उनकी जगह कोई नहीं ले सकता।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!