जागरण संवाददाता, जालंधर। नगर निगम की बहुप्रतीक्षित हाउस की मीटिंग विपक्ष और सत्ता पक्ष के बीच तीखे आरोप-प्रत्यारोप के बीच 40 मिनट में ही खत्म हो गई। आधे घंटे के सुनने काल में विपक्ष के आरोपों को लेकर सत्ता पक्ष के पार्षद भी पूरे तेवर में दिखे और विरोध बढ़ता देख नियर जगदीश राज राजा ने सभी प्रस्ताव 1 मिनट में पास कर दिए और कहा है कि अगर किसी को किसी प्रस्ताव पर ऑब्जेक्शन है तो वह इसके लिए लिखित तौर पर दे सकता है। मीटिंग में विपक्ष के नेता वरेश मिंटू ने एलईडी प्रोजेक्ट सरफेस प्रोजेक्ट के लिए तोड़ी गई सड़कों और 11 चौक के सुंदरीकरण प्रोजेक्ट का मुद्दा प्रमुखता से उठाया ।

एलईडी प्रोजेक्ट को लेकर वेयरहाउस में 1 दिन पहले हुई थी मीटिंग में तो कांग्रेस के पार्षद खूब भड़क रहे थे लेकिन जब हाउस की मीटिंग में विपक्ष ने इस पर आपत्ति जताई तो सभी बचाव की मुद्रा में आ गए। विपक्ष ने आरोप लगाया कि एलइडी स्ट्रीट लाइट प्रोजेक्ट बेहद ही खराब है और इस पूरे प्रोजेक्ट में विपक्ष के पार्षदों के वार्डो में भेदभाव पूर्ण तरीके से काम किया जा रहा है।

इस बीच आरोपों को लेकर जब सत्ता पक्ष के पास दो में विपक्ष को बोलने से रोका और हंगामे की स्थिति बन गई तो मैं अपने प्रस्ताव पास करके मीटिंग खत्म करने की घोषणा कर दी। इसके विरोध में विपक्ष की महिला पार्षद चंद्रजीत कौर संधा, श्वेता धीर, शैली खन्ना मंच पर चढ़ गई और मेयर के आगे धरने पर बैठ गई। मेयर जाने लगे तो तीनों महिला पार्षदों ने चेन बना कर मेयर को राेक लिया और जाने से रोका। कांग्रेस के पार्षदों के हस्तक्षेप के बाद में  मेयर रवाना हुए।

यह भी पढ़ें-  डिप्टी सीएम रंधावा की बड़ी कार्रवाई, फिल्लौर हाईटेक नाके पर तैनात तीन पुलिस मुलाजिम किए सस्पेंड; जानें पूरा मामला

Edited By: Vinay Kumar