जागरण संवाददाता, जालंधर। विधायक राजिंदर बेरी ने विधानसभा सत्र में बिस्त दोआब नहर के जरिए सतलुज दरिया का पानी लाकर शहर में सप्लाई करने के सरफेस वाटर प्रोजेक्ट का स्टेट्स पूछा। बेरी ने स्थानीय निकाय मंत्री से पूछा कि इस प्रोजेक्ट में अब तक कितना काम हुआ है और यह प्रोजेक्ट कब तक पूरा होगा।

इसके जवाब में स्थानीय निकाय मंत्री ब्रह्मा मोहिंदरा ने बताया कि प्रोजेक्ट के लिए जमीन एक्वायर करने की प्रक्रिया चल रही है। प्रोजेक्ट के लिए प्री-फिजिबिल्टी रिपोर्ट पूरी हो चुकी है। प्रोजेक्ट पर काम करने की इच्छुक कंपनियों से प्री-क्वालिफिकेशन के लिए 11 जुलाई 2019 को टेंडर मांगे गए हैं। टेंडर लेने की आखिरी तारीख 20 अगस्त है। जमीन एक्वयार करने का प्रोसेस पूरा होने और प्रोजेक्ट का टेंडर अलाट होने के बाद काम पूरा होने में तीन साल लग जाएंगे। शहर में ग्राउंड लेवल वाटर गिरने के कारण पीने के लिए दरिया का पानी इस्तेमाल किया जाना है। इस प्रोजेक्ट पर करीब 1400 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।
 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!